Wednesday, August 10, 2022
Home Blog

2023 विश्व कप मैच: जीवनी के साथ टीम इंडिया के खिलाड़ियों की सूची

0

World Cup 2023 Matches: Team India Players List With Biography 

नमस्कार दोस्तों जैसा कि आप सभी जानते हैं कि 2023 वर्ल्ड कप मैच (world cup 2023) का शेड्यूल जारी कर दिया गया है और वर्ल्ड कप 2023 का पहला मैच 30 मई 2023 को खेला जाएगा और पूरा मैच इंग्लैंड के मैदान पर ही खेला जाएगा.

एक बार फिर 2023 विश्व कप का मैच रॉबिन राउंड फॉर्मेट में खेला जाएगा। इन नियमों के तहत सभी टीमें आपस में मैच खेलती हैं, भारतीय टीम ने 2023 विश्व मैच के लिए अपने सभी खिलाड़ियों की घोषणा कर दी है , इस लेख के माध्यम से मैं आपको बताऊंगा कि किस खिलाड़ी का जन्म किस स्थान पर हुआ था। किसे कौन से पुरस्कार मिले हैं?

2023 विश्व कप मैच भारतीय टीम (2023 world cup match indian team)

जैसा कि आप जानते हैं कि टीम इंडिया 2019 विश्व कप मैच से बाहर हो गई थी , एक बार फिर टीम इंडिया की कप्तानी विराट खोली को दी गई है और उपकप्तान रोहित शर्मा अब तक विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी के हाथों में हैं। बदलाव तो नहीं किया गया है लेकिन 2023 वर्ल्ड कप मैच में भारत को कभी भी बदला जा सकता है.

विराट कोहली

virat kohli

जन्म तिथि : 5 नवंबर 1988

जन्म स्थान : दिल्ली

पिता का नाम : स्वर्गीय प्रेम कोहली

माता का नाम : सरोज कोहली

जीवनसाथी : अनुष्का शर्मा

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : बल्लेबाज

विराट कोहली पुरस्कार

आईसीसी वनडे प्लेयर ऑफ द ईयर

क्रिकेट के लिए अर्जुन पुरस्कार

पद्म श्री पुरस्कार

महेंद्र सिंह धोनी

mahendra shingh

जन्म तिथि : 7 जुलाई 1981

जन्म स्थान : राची झारखंड

पिता का नाम : नरेंद्र सिंह धोनी

माता का नाम : जयंती गुप्ता

जीवनसाथी : साक्षी धोनी

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : विकेटकीपर

महेंद्र सिंह पुरस्कार

पद्म भूषण

पद्म श्री

आईसीसी वनडे टीम ऑफ द ईयर

शिखर धवन

shikhar dhavan

जन्म तिथि : 5 दिसंबर 1985

जन्म स्थान : दिल्ली भारत

पिता का नाम : महेंद्र पाल धवन

माता का नाम : सुनैना धवन 

जीवनसाथी : आयशा मुखर्जी

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : बल्लेबाज

शिखर धवन पुरस्कार 

पुरस्कार आईसीसी वनडे टीम

रोहित शर्मा

shikhar dhavan

जन्म तिथि : 30 अप्रैल 1987

जन्म स्थान : मुंबई

पिता का नाम : गुरु नाटे शर्मा

माता का नाम : पूर्णिमा शर्मा

जीवनसाथी :  रितिका सजदा :

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : बल्लेबाज

रोहित शर्मा पुरस्कार

पद्म श्री

पद्म विभूषण

पद्म भूषण

भारत रतन 

भुवनेश्वर कुमार

भुवनेश्वर कुमार

जन्म तिथि : फरवरी 1990

जन्म स्थान : मेरठ

पिता का नाम : इंद्रेश सिंह

माता का नाम : किरण पाल सिंह

जीवनसाथी : नुपुर नगर

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : तेज गेंदबाज

भुवनेश्वर कुमार पुरस्कार

पोली उमरीगड़

लाल अमरनाथ

जसप्रीत भुमराह

jasprit bumraah

जन्म तिथि : 6 दिसंबर 1993

जन्म स्थान : अहमदाबाद

पिता का नाम : स्वर्गीय जसबीर सिंह

माता का नाम : दलजीत बुमराह

जीवनसाथी : अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : गेंदबाज

जसप्रीत भुमरा अवार्ड्स

इंटरनेशनल बॉलर ऑफ द ईयर

अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे..

जन्म तिथि : 6 जून 1988

जन्म स्थान : अश्विनी खुर्दो

पिता का नाम : मधुकर बाबूराव रहाणे

माता का नाम : राजेश्वरी लोकेशी

जीवनसाथी : राधिका धोपावकरी

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : बल्लेबाज

अजिंक्य रहाणे पुरस्कार

क्रिकेट के लिए अर्जुन पुरस्कार

पद्म श्री.

पद्म भूषण

भारत रतन

राजीव गांधी खेल रत्न

कन्नूर लोकेश राहुल

जन्म तिथि : 18 अप्रैल 1992

जन्म स्थान : मैंगलोर

पिता का नाम : डॉ. केएन लोकेश

माता का नाम : राजेश्वरी लोकेश

अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका = बल्लेबाज – विकेटकीपर

कन्नूर लोकेश राहुल पुरस्कार

अल्मनैक क्रिकेटर ऑफ द ईयर

ऋषभ पंत

जन्म तिथि : 04 अक्टूबर 1997

जन्म स्थान : रुड़की

पिता का नाम : राजेंद्र पंत

माता का नाम : सरोज पंतो

अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : विकेटकीपर – बल्लेबाज

ऋषभ पंत पुरस्कार

डीएसजेए  पुरस्कार

ICC मेन्स इमर्जिंग क्रिकेटर ऑफ़ द ईयर

आईसीसी स्पिरिट ऑफ क्रिकेट अवार्ड

 

रवींद्र जडेजा

जन्म तिथि : 6 दिसंबर 1988

जन्म स्थान : जामनगर

पिता का नाम : अनिरुद्धसिंह जडेजा

माता का नाम : लता जडेजा

जीवनसाथी : रीवा सोलंकी

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : ऑलराउंडर

रवींद्र जडेजा पुरस्कार

पुरस्कार ICC ODI टीम ऑफ़ द ईयर

क्रिकेट के लिए अर्जुन पुरस्कार

मोहम्मद शमी

जन्म तिथि : 3 सितंबर 1990

जन्म स्थान : अमरोहा

पिता का नाम : तौसीफ अली

माता का नाम : अंजुम अर

जीवनसाथी : हसीन जहां

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : गेंदबाज

मोहम्मद शमी पुरस्कार 

वनडे डेब्यू (कैप 195)‎

टेस्ट डेब्यू (कैप 279)

 

दिनेश कार्तिक

जन्म तिथि : 1 जून 1985

जन्म स्थान : तिरुचेंदुर

पिता का नाम : कृष्ण कुमार

माता का नाम : पद्मिनी कृष्णकुमार

जीवनसाथी : दीपिका पल्लीकल कार्तिक

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : विकेट कीपर

दिनेश कार्तिक पुरस्कार 

वनडे डेब्यू (कैप 156)‎

टेस्ट डेब्यू (कैप 250)

टी20ई डेब्यू (कैप 4)‎ 

हार्दिक पंड्या 

जन्म तिथि : 11 अक्टूबर 1993

जन्म स्थान : सूरत

पिता का नाम : हिमांशु पंड्या

माता का नाम : नलिनी पंड्या

जीवनसाथी : अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : ऑलराउंडर

हार्दिक पांडिया अवार्ड्स 

बड़ौदा क्रिकेट टीम 

कुलदीप यादव

    जन्म तिथि : 14 दिसंबर 1994

जन्म स्थान : कानपुर

पिता का नाम : राम सिंह

माता का नाम : उषा यादव

जीवनसाथी : अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : गेंदबाज

कुलदीप यादव पुरस्कार 

वनडे डेब्यू (कैप 217)‎

टेस्ट डेब्यू (कैप 288)

युजवेंद्र चहल 

जन्म तिथि : 23 जुलाई 1990

जन्म स्थान : जींद

पिता का नाम : केके चहल 

माता का नाम : सुनीता देवी

जीवनसाथी : अविवाहित

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : गेंदबाज

युजवेंद्र चहल पुरस्कार 

वनडे डेब्यू (कैप 211)

टी20ई डेब्यू (कैप 60)

 

केदार जाधव

जन्म तिथि : 26 मार्च 1985

जन्म स्थान : पुणे

पिता का नाम : महादेव जाधव

माता का नाम : मंदाकिनी जाधव

जीवनसाथी : स्नेहल  जाधव

भारतीय क्रिकेट टीम की भूमिका : बल्लेबाज

केदार जाधव पुरस्कार 

वनडे डेब्यू (कैप 205)

टी20ई डेब्यू (कैप 51)

स्वर्ण जयंती वार्षिक पुरस्कार

निष्कर्ष :- मैंने आपको इस आर्टिकल में world cup 2023 की सम्पूर्ण जानकारी दी है जैसे की कितने प्लेयर है उनकी बारे में इत्यादि और मैं उम्मीद करता हु की आपको इस आर्टिकल से काफी कुछ जानने को मिला होगा आपको कुछ और जानकारी चाहिए तो आप हमे कमेंट के माध्यम से पता कर सकते हैं

धन्यवाद

Read more :-

How To Watch 2023 World Cup Live Match Free Tips। वर्ल्ड कप 2023 लाइव मैच कैसे देखें फ्री टिप्स

Indian Premier League 2023 | इंडियन प्रीमियर लीग 2023

Indian Premier League 2023 | इंडियन प्रीमियर लीग 2023

0

Indian Premier League 2023 (IPL)

इंडियन प्रीमियर लीग (Indian Premier League 2023) के 15वें सीजन के 29 मई 2022 को समाप्त होने के बाद अब आईपीएल के 16वें सीजन यानी आईपीएल 2023 की बारी है। आईपीएल 2022 का फाइनल मैच गुजरात और राजस्थान की टीम के बीच अहमदाबाद में नरेंद्र मोदी स्टेडियम में खेला गया था। इस मैच को गुजरात टाइटंस की टीम ने 7 विकेट से जीत लिया। इस पोस्ट में आपको ipl 2023 से जुड़ी सभी जानकारी हिंदी में मिलने वाली है।

आईपीएल 2023 (ipl 2023)

विवरण जानकारी
लीग इंडियन प्रीमियर लीग – आईपीएल
देश भारत (इंडिया)
लेटेस्ट एडिशन 16वां
साल 2023
कब शुरू होगा अप्रैल 2023 में (अनुमानित)
किस देश में खेला जायेगा भारत (इंडिया)
ऑक्शन कब होगा
ऑक्शन कहाँ होगी
टीमों की संख्या 10
नयी टीम कितनी हैं 0
टीमें राजस्थान रॉयल्स, दिल्ली कैपिटल्स, गुजरात टाइटन्स, मुंबई इंडियंस, कोलकत्ता नाइट राइडर्स, सनराइज़र्स हैदराबाद, चेन्नई सुपर किंग्स , रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर, लखनऊ सुपर जायंट्स, और पंजाब किंग्स
सबसे ज्यादा रन
सबसे ज्यादा विकेट
सबसे ज्यादा छक्के
सबसे महंगा खिलाड़ी
फाइनल मैच मई 2023 में (अनुमानित)
टाइटल स्पोंसर टाटा ग्रुप
आखिरी विजेता गुजरात टाइटन्स
पॉइंट्स टेबल

 

आईपीएल 2023 कब शुरू होगा IPL 2023 Kab Se Shuru Hoga 

(ipl 2023)  अपने निर्धारित समय अप्रैल 2023 में शुरू होगा, जिसमें कुल 10 टीमें आईपीएल 2022 की तरह भाग लेंगी और एक साथ कुल 74 मैच खेलेंगी। इन 74 मैचों में 70 लीग मैच, दो क्वालीफायर मैच, एक एलिमिनेटर मैच और एक फाइनल मैच खेला जाएगा. 2023 का आईपीएल भी भारत में खेला जाएगा।

IPL 2022 के खत्म होने से पहले ही BCCI ने ipl 2023 के लिए एक बड़ा ऐलान किया था, जिसके मुताबिक IPL का अगला सीजन यानी IPL 2023 शाम 8 बजे और दोपहर 4 बजे से शुरू होगा. . पहले आईपीएल के सभी शाम के मैच शाम 7.30 बजे शुरू होते थे और दोपहर के सभी मैच 3.30 बजे शुरू होते थे। 

आईपीएल 2023 कब शुरू होगा IPL 2023 Kab Se Shuru Hoga 

(IPL 2023)  अपने निर्धारित समय अप्रैल 2023 में शुरू होगा, जिसमें कुल 10 टीमें आईपीएल 2022 की तरह भाग लेंगी और एक साथ कुल 74 मैच खेलेंगी। इन 74 मैचों में 70 लीग मैच, दो क्वालीफायर मैच, एक एलिमिनेटर मैच और एक फाइनल मैच खेला जाएगा. 2023 का आईपीएल भी भारत में खेला जाएगा।

IPL 2022 के खत्म होने से पहले ही BCCI ने IPL 2023 के लिए एक बड़ा ऐलान किया था, जिसके मुताबिक IPL का अगला सीजन यानी IPL 2023 शाम 8 बजे और दोपहर 4 बजे से शुरू होगा. . पहले आईपीएल के सभी शाम के मैच शाम 7.30 बजे शुरू होते थे और दोपहर के सभी मैच 3.30 बजे शुरू होते थे। 

आईपीएल 2023 टीम लिस्ट (IPL 2023 Team List)

जिसमें सभी वे टीमें होंगी जो आईपीएल 2022 में खेल चुकी हैं। इसमें राजस्थान रॉयल्स, दिल्ली कैपिटल्स, गुजरात टाइटंस, मुंबई इंडियंस, कोलकाता नाइट राइडर्स, सनराइजर्स हैदराबाद, चेन्नई सुपर किंग्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, लखनऊ सुपर जायंट्स और पंजाब किंग्स का नाम भी शामिल हैं। नीचे आप आईपीएल 2023 की टीम लिस्ट देख सकते हैं-

  1. पंजाब किंग्स (Punjab Kings)
  2. मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians)
  3. गुजरात टाइटन्स (Gujarat Titans)
  4. दिल्ली कैपिटल्स (Delhi Capitals)
  5. राजस्थान रॉयल्स (Rajasthan Royals)
  6. चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai Super Kings)
  7. सनराइज़र्स हैदराबाद (Sunrisers Hyderabad)
  8. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (Royal Challengers Bangalore)
  9. लखनऊ सुपर जायंट्स (Lucknow Super Giants)
  10. कोलकत्ता नाइट राइडर्स (Kolkata Knight Riders)

आईपीएल 2023 खिलाड़ी लिस्ट (IPL 2023 Players List)

पंजाब किंग्स खिलाड़ी 2023 (Punjab Kings Players 2023) :- 

मयंक अग्रवाल, अर्शदीप सिंह, शिखर धवन, जॉनी बेयरस्टो, लियाम लिविंगस्टोन, जितेश शर्मा, प्रभसिमरन सिंह, ओडियन स्मिथ, शाहरुख खान, हरप्रीत बराड़, कगिसो रबाडा, राहुल चाहर, ईशान पोरेल, संदीप शर्मा, अथर्व ताएदे, वैभव अरोड़ा, अंश पटेल, राज अंगद बावा, बेनी हॉवेल, ऋषि धवन, भानुका राजपक्षे, बलतेज सिंह, रितिक चटर्जी, नाथन एलिस, प्रेरक मांकड़ आदि लोग शामिल हैं। 

मुंबई इंडियंस खिलाड़ी 2023 (Mumbai Indians players 2023) :- 

रोहित शर्मा, सूर्य कुमार यादव, ईशान किशन, डेवल्ड ब्रवीस, अनमोल प्रीत सिंह, राहुल बुड्ढी, आर्यन जुयाल, तिलक वर्मा, रमनदीप सिंह, कीरोन पोलार्ड, संजय यादव, डेनियल सैमस, टिम डेविड, ऋतिक शौक़ीन, फेबियन एलेन, जसप्रीत बुमराह, बसिल थम्पी, जयदेव उनादकट, मुरुगन आश्विन, मयंक मारकंडे, टायमल मिल्स, रिली मेरेडिथ, जोफ्रा आर्चर, अर्जुन तेंदलुकर, मोहम्मद अरशद खान आदि लोग शामिल हैं। 

दिल्ली कैपिटल्स खिलाड़ी 2023 (Delhi Capitals Players 2023) :- 

ऋषभ पंत, पृथ्वी शॉ, डेविड वार्नर, आश्विन हेब्बर, सरफ़राज़ खान, केएस भारत, यश धूल, मनदीप सिंह, रोवमन पॉवेल, टिम सिफ़रट, अभिषेक शर्मा, मिचेल मार्श, ललित यादव, रिपल पटेल, विक्की ओस्तवाल, एनरिच नोर्त्जे, शार्दुल ठाकुर, कमलेश नागरकोटी, मुस्ताफ़िज़ुर रेहमान, लुन्गी नागिड़ी, खलील अहमद, चेतन सकरिया, प्रवीन दुबे, कुलदीप यादव आदि लोग शामिल हैं। 

गुजरात टाइटन्स खिलाड़ी 2023 (Gujarat Titans Player 2023):- 

शुभमन गिल, हार्दिक पंड्या, राशिद खान, मोहम्मद शमी, जेसन रॉय, लॉकी फर्ग्युसन, अभिनव सदरानगनी, राहुल तेवतिया, नूर अहमद, आर. साई किशोर, डॉमिनिक ड्रेक्स, जयंत यादव, विजय शंकर, दर्शन नालकंडे, यश दयाल, अलजारी जोसफ, प्रदीप सांगवान, ऋद्धिमान साहा, मैथ्यू वेड, वरुन एरॉन, गुरकीरत मान सिंह, साई सुदर्शन, डेविड मिलर आदि लोग शामिल हैं। 

चेन्नई सुपर किंग्स खिलाड़ी 2023 (Chennai Super Kings Player 2023):- 

ऋतुराज गायकवाड़, मोईन अली, महेंद्र सिंह धोनी और रविंद्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो, रॉबिन उथप्पा, दीपक चाहर, अंबाती रायुडू, केएम आसिफ, तुषार देशपांडे, शिवम दूबे, महेश तीकशाना, राजवर्धन हंगरेकर, सिमरजीत सिंह, डेवन कॉन्वे, ड्वेन प्रेटोरियस, मिशेल सैंटनर, एडम मिल्ने, सुभ्रांतु सेनापति, मुकेश चौधरी, प्रशांत सोलंकी, सी. हरिनिशांत, एन. जगदीशन, भगत वर्मा, क्रिस जॉर्डन आदि लोग शामिल हैं। 

राजस्थान रॉयल्स खिलाड़ी 2023 (Rajasthan Royals Player 2023):- 

संजू सैमसन, जोस बटलर, यशस्वी जायसवाल, देवदत्त पडिक्कल, शिमरोन हेटमायर, रेयान पराग, आर अश्विन, ट्रेंट बोल्ट, युजवेंद्र चहल, प्रसिद्ध कृष्णा, केसी करियप्पा, नवदीप सैनी, तेजस बरोका, अनुय सिंह, कुलदीप सेन, ध्रुव जुरेल, कुलदीप यादव, शुभम गरवाल, नाथन कूल्टर नाइल, रासी वान डर डूसेन, जेम्स नीशम, डेरिल मिशेल, करुण नायर, ओबेद मैककॉय आदि लोग शामिल हैं। 

सनराइज़र्स हैदराबाद खिलाड़ी 2023 (Sunrisers Hyderabad Players 2023):-

केन विलियमसन, अब्दुल समद, उमरान मलिक, अभिषेक शर्मा, राहुल त्रिपाठी, निकोलस पूरन, एडेन मार्कराम, प्रियम गर्ग, वाशिंगटन सुंदर, मार्को जेनसेन, भुवनेश्वर कुमार, जे सुचित, श्रेयस गोपाल, कार्तिक त्यागी, टी नटराजन, सौरभ दुबे, शशांक सिंह, सीन एबॉट, आर समर्थ, जे सुचित, रोमारियो शेफर्ड, विष्णु विनोद, ग्लेन फिलिप्स, फजलहक फारूक आदि लोग शामिल हैं। 

निष्कर्ष :- मैंने आपको इस आर्टिकल में ipl 2023 के सभी टीमों के नाम और उनके प्लेयर्स के नाम बता दिए है अगर आपको अभी भी किसी तरह की जानकारी चाहिए तो आप मुझे कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं मुझे आप के इस बात से बहुत ख़ुशी मिलेगी। 

पूर्ण जानकारी पढ़ने के लिए धन्यवाद 🙏🙏 

Read more :-

 How To Watch 2023 World Cup Live Match Free Tips। वर्ल्ड कप 2023 लाइव मैच कैसे देखें फ्री टिप्स

WhatsApp Payment Process की सम्पूर्ण जानकरी In Hindi

How To Watch 2023 World Cup Live Match Free Tips। वर्ल्ड कप 2023 लाइव मैच कैसे देखें फ्री टिप्स

0

World Cup 2023 Match List

नमस्कार दोस्तों आज मैं बात करूंगा कि 2023 वर्ल्ड कप का लाइव मैच कैसे देखें (Watch World Cup 2023 Live Match Free ), लाइव स्कोर कैसे चेक करें, फ्री टिप्स और पूरी गाइड..

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि आईसीसी क्रिकेट 2023 वर्ल्ड कप मैच की तारीखें आ चुकी हैं। 30 मई 2023 से 14 जुलाई तक।

ये मैच 48 दिनों तक इंग्लैंड के 11 वेन्यू में खेले जाएंगे। ICC विश्व कप 2023 ने कुल 10 टीमों की घोषणा की है जो विश्व कप में भाग लेंगी। हम प्रशंसकों में आईसीसी विश्व कप के लिए उत्सुकता देख सकते हैं।

विश्व कप मैच का क्रेज आपको अलग-अलग देश की हर गली में देखने को मिल जाएगा, कई मामलों में प्रशंसक 2023 विश्व कप लाइव मैच को मिस नहीं करना चाहते हैं, वे अनजाने में उन वेबसाइटों पर जाते हैं जहां वे अधिक विज्ञापन दिखाते हैं फिर लाइव मैच। 

कई दर्शक ऐसे होते हैं जो ऑफिस के रोजाना के काम में व्यस्त रहते हैं और वर्ल्ड कप का मैच नहीं देख पाते हैं. यदि आप लोग 2023 विश्व कप का लाइव मैच देखना चाहते हैं या आईसीसी क्रिकेट विश्व कप 2023 लाइव स्कोर के बारे में कोई अपडेट चाहते हैं तो और कुछ तरीके हैं जिनसे आप 2023 विश्व कप के मैचों का आनंद मुफ्त में ले सकते हैं।

2023 विश्व कप का लाइव मैच कैसे देखे।  How To Watch 2023 World Cup live match

टॉप 5 ऑनलाइन क्रिकेट लाइव स्कोर वेबसाइट । Top 5 Online Live Scores Website

  1. Cricbuzz
  2. Star Sports
  3. Hotstar
  4.  ESPNcricinfo
  5. Yahoo Cricket 

ये टॉप पांच वेबसाइटें हैं जहां आप बिना किसी विज्ञापन के लाइव मैच स्कोर देख सकते हैं। इनके अलावा और भी कई साइट्स हैं

लेकिन लाइव स्ट्रीमिंग के बीच ये कई विज्ञापन दिखाते हैं। उपर्युक्त वेबसाइट मैच अपडेट के लिए सर्वश्रेष्ठ हैं।

1.Hotstar 

  • आज के दौर में हॉटस्टार के बारे में तो सभी जानते ही होंगे। यदि आप इसके बारे में नहीं जानते हैं, तो मैं आपको बता दूं कि यह एक लोकप्रिय वेबसाइट और ऐप है।
  • इस ऐप में आप आसानी से लाइव टीवी देख सकते हैं और इसे आईसीसी वर्ल्ड कप के डिजिटल पार्टनर के तौर पर चुना गया है।
  • यानी आप इस ऐप पर 2023 वर्ल्ड कप के मैच आसानी से लाइव देख सकते हैं। इसमें स्टार पैकेज के सभी चैनल भी शामिल हैं। आप बॉलीवुड, हॉलीवुड, टॉलीवुड, कार्टून और भी बहुत कुछ देख सकते हैं।
  • इसके लिए आपको बस अपनी जरूरत के हिसाब से एक प्लान चुनना होगा, फिर आप हॉटस्टार पर लाइव स्ट्रीमिंग कर पाएंगे। अगर आपने हॉटस्टार पर किसी प्लान को सब्सक्राइब नहीं किया है और न ही आपके पास जियो नेटवर्क है तो आप लगभग 4 मिनट तक ही लाइव स्ट्रीमिंग कर सकते हैं।
  • “10 मिनट का मैच लाइव देखने के बाद टैब को बंद कर दें। हिस्ट्री ओपन करें, उसके बाद हिस्ट्री और कैशे दोनों को क्लियर करना होगा। फिर हॉट स्टार एप्लीकेशन को ओपन करें… आप इसे 10 मिनट फिर से फ्री में देख सकते हैं। “

2.Cricbuzz

यदि आप क्रिकेट के बहुत बड़े प्रशंसक हैं और क्रिकेट के किसी भी अपडेट को याद नहीं करना चाहते हैं, तो क्रिकेट बज़ एक अन्य वेबसाइट है जो एक एप्लिकेशन के रूप में पुरानी है जहां आप लाइव स्कोर विश्व कप 2023 के बारे में सभी अपडेट प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप नहीं करते हैं आपके पास एक अच्छा स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन है तो यह आपके लिए सबसे अच्छी वेबसाइट है।

3.Jio TV 

  • अगर आप जियो यूजर हैं तो आपके लिए खुशखबरी है। आप JioTV एप्लिकेशन पर ICC 2023 World Cup को बहुत आसानी से लाइव देख सकते हैं।
  • लेकिन इसके लिए आपको एक JIO यूजर होना चाहिए क्योंकि नहीं, आप JioTV में लॉग इन नहीं कर सकते हैं।
  • JioTV एप्लिकेशन के लगभग 3 से 5 मिलियन सक्रिय उपयोगकर्ता (active users)  हैं। यह आपको विभिन्न चैनल और भाषाएं प्रदान करता है। संक्षेप में, यह एक उपयोगकर्ता के अनुकूल अनुप्रयोग है।
  • JIO TV के सभी चैनल जो आपको अपनी पसंद के मिल जाएंगे, जिसमें दो भाषाओं में हिंदी और अंग्रेजी दोनों मिलते हैं। जियो टीवी को सिर्फ जियो यूजर ही देख सकते हैं, बिना जियो नंबर के आप इस जियो टीवी में लॉग इन नहीं कर सकते हैं। 

“अगर आप jio के ग्राहक हैं तो आप भी इस ICC World Cup Match 2023 को उठा सकते हैं। हालांकि, इसके लिए आपको Hotstar ऐप डाउनलोड करना होगा। जियो ऐप में अगर आप स्टारस्पोर्ट्स पर क्लिक करते हैं तो यह आपको सीधे हॉटस्टार पर ले जाएगा, जहां आप इस मैच को देख सकेंगे।”

4.Airtel TV

  • एयरटेल ने कुछ दिन पहले घोषणा की थी कि सभी एयरटेल यूजर्स वर्ल्ड कप का लाइव मैच एयरटेल टीवी ऐप पर फ्री में देख सकते हैं।
  • JioTV और Airtel TV अपने काम करने और फीचर्स में लगभग एक जैसे हैं।
  • दोनों ऐप पर आप वर्ल्ड कप का लाइव मैच देख सकते हैं। लेकिन सबसे पहले, आपको एयरटेल टीवी ऐप में लॉगिन करने और लाइव स्ट्रीमिंग का आनंद लेने में सक्षम होने के लिए एक एयरटेल नेटवर्क उपयोगकर्ता होना चाहिए।
  • “सबसे पहले आपको हॉटस्टार एप्लिकेशन प्लेस्टोर या आईफोन स्टोर से एप्लिकेशन डाउनलोड करना होगा, उसके बाद आपको एयरटेल टीवी डाउनलोड करना होगा, फिर आपको हॉटस्टार और Airtel टीवी दोनों में होना चाहिए। इसके बाद आप लाइव स्ट्रीमिंग कर पाएंगे।”

5.Star Sports

अगर आप टेलीविज़न में वर्ल्ड कप लाइव मैच करना चाहते हैं तो आज ही स्टार चैनल पैकेज को सक्रिय करें या आप प्ले स्टोर या आईफोन स्टोर से स्टार स्पोर्ट्स एप्लिकेशन डाउनलोड कर सकते हैं और अपने मोबाइल फोन पर वर्ल्ड कप का लाइव मैच देख सकते हैं।

निष्कर्ष :- आपके सारे अनुभव मैंने इस लेख में लिखे हैं कि कैसे 2023 विश्व कप का लाइव मैच देखकर पूरी तरकीब देखी (Watch World Cup 2023 Live Match Free )। अगर आपको कुछ समझ नहीं आया है या आप कुछ नया ट्रिक बता रहे हैं तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट कर सकते हैं।

Thank You, Visitors,

Read More :- Technology Releted Blog

Windows 7 को restore kaise kren?

Computer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर वायरस फुल फॉर्म

Windows 7 को restore kaise kren?

Windows 7 को restore कैसे करे

इस पोस्ट में आप जानेंगे कि Windows 7 को restore kaise kren? अगर आपके पीसी की स्पीड कम हो गई है या हैंग हो रही है, तो आप अपने कंप्यूटर को फॉर्मेट किए बिना इस समस्या को ठीक कर सकते हैं।
जब विंडो पीसी नई होती है तो उसकी स्पीड अच्छी होती है, लेकिन बार-बार इस्तेमाल और वायरस के कारण हमारे पीसी की स्पीड कम हो जाती है, विंडो की स्पीड कम हो जाती है या बार-बार हैंग होना आम समस्या है। विंडो, इंटरनेट से पायरेटेड सॉफ्टवेयर। डाउनलोड के कारण भी हो सकता है।

इस समस्या के कारण हम अपनी windows format कर देते हैं, लेकिन window problem को ठीक करने का यही एकमात्र तरीका नहीं है, आप चाहें तो अपने पीसी को रिस्टोर (PC restore) करके भी इस समस्या का समाधान कर सकते हैं।

Windows 7 को रिस्टोर / रिकवर करने का तरीका

विंडोज को रिस्टोर करना बहुत आसान है, यहां हम आपको बताएंगे कि विंडो 7 को रिस्टोर कैसे करें। सबसे पहले आप कंट्रोल पैनल (control panel) खोलें और “एक्शन सेंटर” (Action center) पर क्लिक करें, नीचे आपको “रिकवरी ऑप्शन” (recovery option) दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें।

windows 7 restore kaise kare

अब आपको “ओपन सिस्टम रिस्टोर”(open system restore) का विकल्प दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें।
यहां आपको दो विकल्प दिखाई देंगे

  1. Undo System Restore
  2. Choose a different restore pointlaptop restore kaise kare

यहाँ अगर आप अन्य point पर restore करना चाहते है तो सेकंड option सेलेक्ट करे नहीं तो पहला ही रहने दे और next पर क्लिक करे.

अगले चरण में, जैसे ही आप Finish पर क्लिक करेंगे, सिस्टम रिस्टोर (System restore )शुरू हो जाएगा और जब पूरी प्रक्रिया समाप्त हो जाएगी, तो कंप्यूटर रीस्टार्ट हो जाएगा और पहले की तरह काम करेगा, अगर रिकवरी में समस्या नहीं होती है, तो आप advance recovery option का उपयोग कर सकते हैं।

restore/recover करें विंडोज़ आपके दस्तावेज़ों और फ़ाइलों को प्रभावित नहीं करता है, केवल हाल ही में स्थापित प्रोग्राम और सॉफ़्टवेयर हटा दिए जाते हैं, ताकि आपका पीसी पुरानी स्थिति में हो जैसा कि समस्या से पहले था।

विंडोज 7 को रीइंस्टॉल करने से आपके पीसी की छोटी-छोटी समस्याएं आसानी से हल हो सकती हैं। यदि आपके पीसी में कोई नया सॉफ्टवेयर या प्रोग्राम इंस्टॉल करने के बाद कोई समस्या आती है, तो आप इस विकल्प का उपयोग करने से पहले उस सॉफ़्टवेयर को uninstall करने का प्रयास कर सकते हैं, हो सकता है कि आपका कंप्यूटर आपके पीसी को फिर से इंस्टॉल किए बिना ठीक हो जाए।

FAQ

1. Windows 7 किस operating system के बाद लॉन्च हुआ था ?
ANS :- विंडोस विस्टा

2. Windows 7 ……. है ?
ANS :- operating system

3. Windows 7 किस कंपनी के द्वारा बनाया गया है ?
ANS :- Microsoft

4. विंडोस 7 में स्क्रीनशोर्ट के लिए किस का उपयोग किया जाता है ?
ANS :- Snipping tool का

5. विंडोस 7 में फोल्डर सिस्टम को क्या कहा जाता है ?
ANS :- डायरेक्टरी सिस्टम

6. विंडोस 7 में किसी प्रोग्राम की डिस्प्ले को अगर बड़ा करने के लिए किसका use किया जाता है ?

ANS :- Maximize

7. विंडोस 7 में delete की गयी फाइल कहा पर स्टोर होती है ?
ANS :- Recycle Bin में

8. विंडोस 7 को कब लॉन्च किया गया था ?
ANS :- 22 october 2009

9. विंडोस 7 किस कंपनी के द्वारा लॉन्च किया गया है ?
ANS :- Microsoft

10. विंडोस 7 में current विंडोस को बंद करने के लिए शॉर्टकट key use किया जाती है ?
ANS :- Alt + F4

निष्कर्ष :- दोस्तों आज हमने इस लेख के माध्यम से विंडो 7 को रिस्टोर करने के बारे में जानने की कोशिश की है, हम आशा करते हैं कि इस लेख की सहायता से आपको Windows 7 को reset करने के बारे में बहुत कुछ पता चल गया होगा, फिर भी किसी भी प्रकार का भ्रम बना हुआ है। यदि हां, तो बेझिझक टिप्पणियों के माध्यम से पूछें। आपको यह लेख कैसा लगा कमेंट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें, क्योंकि आपकी प्रतिक्रिया हम और आप दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने फ्रेंड सर्कल में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ते रहने के लिए Roster जुड़े रहिये….धन्यवाद!

Read more :-  

फ़ायरवॉल क्या है? Firewall kya hai? जाने आसान भाषा में?

Computer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर वायरस फुल फॉर्म

फ़ायरवॉल क्या है? Firewall kya hai? जाने आसान भाषा में?

फ़ायरवॉल क्या है? Firewall kya hai?

Firewall kya hai :- फ़ायरवॉल नेटवर्क सुरक्षा में उपयोग किया जाने वाला एक घटक है जो सार्वजनिक इंटरनेट से किसी विशेष नेटवर्क, यानी डेटा पैकेट पर आने और जाने वाले ट्रैफ़िक को पूर्व-निर्धारित नियम के अनुसार जाँच करके अनुमति देने का काम करता है।

फ़ायरवॉल को डेडिकेटेड हार्डवेयर भी कह सकते हैं और केवल एक सॉफ्टवेयर भी, जिसका मुख्य कार्य नेटवर्क में आने वाले और बाहर जाने वाले ट्रैफ़िक को स्कैन करना और उसमें निर्धारित नियमों के अनुसार डेटा पैकेट को पास करना है।

कंप्यूटर नेटवर्क में प्रयुक्त फायरवॉल दो शब्दों से मिलकर बना है, पहली फायर का अर्थ है आग और दूसरी वाल का अर्थ है दीवार जो किसी इमारत को सीधी आग से बचाती है।
नेटवर्क सुरक्षा के मामले में फ़ायरवॉल ठीक यही काम करता है। यह इंटरनेट में उत्पन्न होने वाली हानिकारक गतिविधि को रोकता है, जो इसके नियम का पालन नहीं करता है, एक तरफ से दूसरी तरफ जाने से और निजी नेटवर्क को नुकसान होने से बचाता है, यही फ़ायरवॉल का मुख्य उद्देश्य है।

उदाहरण के लिए, किसी विशेष परिसर के अंदर अनधिकृत प्रवेश को रोकने के लिए, उस परिसर के मुख्य प्रवेश द्वार पर एक “सिक्योरिटी गार्ड ” लगाया जाता है और आने वाले सभी लोगों की जांच की जाती है और केवल अधिकृत और वहां जाने वाले लोगों को नियम के अनुसार रखा जाता है। उसी तरह, एक नेटवर्क में एक “फ़ायरवॉल” भी डेटा पैकेट को केवल अधिकृत और उस नेटवर्क में बनाए गए नियमों के अनुसार चलने की अनुमति देता है और अनधिकृत पहुंच को रोककर नेटवर्क सुरक्षा को बनाए रखता है। . इस प्रकार फ़ायरवॉल एक बाधा के रूप में कार्य करता है।

फ़ायरवॉल एक बड़े संगठन के नेटवर्क के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जिसमें कई कंप्यूटर और सर्वर होते हैं, जहां निजी काम किया जा रहा है और जहां डेटा संवेदनशील है। ऐसे स्थानों में उच्च सुरक्षा की आवश्यकता होती है क्योंकि यदि प्रत्येक उपयोगकर्ता को इस नेटवर्क तक पूर्ण पहुंच प्राप्त हो जाती है, तो एक हैकर भी आसानी से आ सकता है और साइबर हमले के इरादे से उस नेटवर्क को पूरी तरह से बाधित कर सकता है। इसलिए इसकी सुरक्षा के लिए फायरवॉल की आवश्यकता होती है।

आज की हाई-टेक दुनिया में, प्रत्येक घर के लिए और विशेष रूप से किसी व्यवसाय या संगठन के लिए अपने नेटवर्क को सुरक्षित रखने के लिए फ़ायरवॉल आवश्यक है।

फ़ायरवॉल कैसे काम करता है? Firewall kaise kaam karta hai?

हम सभी जानते हैं कि कोई भी फ़ायरवॉल प्री-डिफ़ाइंड रूल के अनुसार काम करता है, ऐसे में सबसे पहले उसके अंदर एक्सेस रूल को परिभाषित करना होता है।

फ़ायरवॉल अपने नेटवर्क में आने वाले डेटा पैकेट (यातायात) को कैसे और किन मापदंडों पर फ़िल्टर करेगा, यह उसके भीतर निर्धारित नियमों द्वारा निर्धारित किया जाता है। फ़ायरवॉल में निर्धारित नियमों को एक्सेस कंट्रोल लिस्ट के रूप में भी जाना जाता है जो नेटवर्क व्यवस्थापक द्वारा निर्धारित की जाती हैं।

फायरवॉल एक्सेस कंट्रोल लिस्ट में नेटवर्क एक्सेस की स्थिति उस नेटवर्क में प्रवेश करने के लिए अलग-अलग मापदंडों के आधार पर निर्धारित की जाती है कि किस आधार पर इनकार किया जाए और किस आधार पर अनुमति दी जाए। ये नियम या तो अनुमति देते हैं या अनुमति से इनकार करते हैं।

उदाहरण के लिए, यहाँ हमारे पास फ़ायरवॉल की एक्सेस कंट्रोल सूची में कुछ नियम हैं जैसे: –

Firewall access control list example

यहां इस एक्सेस कंट्रोल लिस्ट में Source IP Addresses और Destination Port की एक सूची दिखाई गई है, जिन्हें इस फ़ायरवॉल द्वारा अनुमति दी गई है। जैसा कि आप ऊपर एक्सेस कंट्रोल लिस्ट में देख सकते हैं, यहां कुछ Source IP Addresses से ट्रैफिक को इस नेटवर्क में प्रवेश करने से मना कर दिया गया है, बाकी को Default Allow Policy के तहत यानी किसी भी पैरामीटर के आधार पर जो यहां दिया गया है। उन सभी का उल्लेख नहीं किया गया है, जिनके पास डिफ़ॉल्ट रूप से Allow है।

तो इस नेटवर्क में अगर ट्रैफिक उस Source IP Addresses से आने की कोशिश करता है जिसे अस्वीकार कर दिया गया है तो फ़ायरवॉल एक्सेस कंट्रोल लिस्ट में दिए गए नियम के अनुसार इसे अस्वीकार कर देगा, लेकिन इसके अलावा जो भी Source IP और Destination IP Addresses डिफ़ॉल्ट रूप से ट्रैफिक आ रहा होगा, इस नेटवर्क में इसकी अनुमति दी गई है, वे इस नेटवर्क में पहुंचने का एक्सेस पा सकेंगे।

फ़ायरवॉल केवल IP Addresses के आधार पर ही रूल बनाने की अनुमति नहीं देते हैं बल्कि वे Domain Name, Protocol, Program, Source/Destination Port Number और Keyword के आधार पर भी रूल बना सकते हैं।

ऐसे में अगर यदि Port Number के आधार पर आप इसके रूल को समझने का प्रयास करते हैं अगर ऊपर के नियमों में कुछ Destination Port को भी Deny कर दिया गया है जैसे आप यहाँ पर देख सकते हैं Destination पोर्ट नंबर 80, 25 और 110 को उपयोग में लेने वाले ट्रैफिक को Deny (अस्वीकार) कर दिया गया है ऐसे में जो भी इस नेटवर्क में डाटा पैकेट Destination पोर्ट नंबर 80, 25 और 110 का उपयोग कर रहा होगा उसे फ़ायरवॉल द्वारा Deny (अस्वीकार) कर दिया जायेगा, बाकि कोई भी होगा उसे Allow (स्वीकार) कर लेगा।

इसी तरह कई अन्य पेरामीटर के आधार पर किसी भी ट्रैफिक को अनुमति (Allow) या अस्वीकार(Deny) किया जा सकता है, यहां हमने केवल कुछ मापदंडों के आधार पर संक्षेप में समझाने की कोशिश की है।

सीधे शब्दों में खा जाये तो, फ़ायरवॉल (Firewall ) हमारे द्वारा दिए गए अनुमति आदेश को मान कर उसी के आधार पर नेटवर्क में सभी ट्रैफ़िक को स्कैन कर लेता है और हमारे द्वारा निर्धारित अस्वीकरण नियम के अनुसार ट्रैफ़िक को फ़िल्टर करने का काम करता है।

फ़ायरवॉल कितने प्रकार के होते है? Firewall kitne prakar ke hote hai?

फ़ायरवॉल मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है:-

  1. होस्ट आधारित फ़ायरवॉल
  2. नेटवर्क आधारित फ़ायरवॉल

1. होस्ट आधारित फ़ायरवॉल (Host based firewall)

होस्ट-आधारित फ़ायरवॉल (host based firewall) को वह फ़ायरवॉल कहा जाता है जो एक डेडिकेटेड हार्डवेयर नहीं है बल्कि किसी भी Multipurpose Computer में फ़ायरवॉल का केवल एक सॉफ़्टवेयर डालकर उसी डिवाइस की सुरक्षा के लिए उपयोग किया जाता है, इसे होस्ट-आधारित फ़ायरवॉल कहा जाता है, जो एक सॉफ़्टवेयर फ़ायरवॉल है .(Firewall kya hai)

उदाहरण के लिए, Microsoft ऑपरेटिंग सिस्टम के पैकेज में इनबिल्ट आने वाला फ़ायरवॉल या किसी एंटीवायरस के साथ पहले से पैक किया गया फ़ायरवॉल, ये सभी एक प्रकार का फ़ायरवॉल है जो किसी भी कंप्यूटर यानि होस्ट पर स्थापित होता है और यह केवल उस कंप्यूटर की सुरक्षा करता है। और कुछ नहीं। इसलिए इस प्रकार के फ़ायरवॉल को होस्ट-आधारित फ़ायरवॉल कहा जाता है।

2. नेटवर्क-आधारित फ़ायरवॉल (Network based firewall) :

एक नेटवर्क-आधारित फ़ायरवॉल हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर का एक संयोजन है जो एक Dedicated Device है और इसमें Network Layer के आधार पर सुरक्षा प्रदान करने की शक्ति है।

उस नेटवर्क में इंटरनेट से आने वाले हानिकारक डेटा पैकेट को फ़िल्टर करने के लिए इसे एक निजी नेटवर्क और सार्वजनिक इंटरनेट के बीच रखा जाता है। जहां एक होस्ट-आधारित फ़ायरवॉल केवल उस कंप्यूटर की सुरक्षा करता है, एक नेटवर्क-आधारित फ़ायरवॉल पूरे नेटवर्क की सुरक्षा करता है और इसमें परिभाषित कोई भी सुरक्षा प्रबंधन पूरे नेटवर्क में किसी भी हानिकारक गतिविधि को रोकने के लिए पूरे नेटवर्क पर लागू होता है। आने से पहले रोका जा सके।

नेटवर्क-आधारित फायरवॉल एक अकेला डेडिकेटेड डिवाइस होता है जिसका उपयोग मुख्य रूप से बड़े आर्गेनाइजेशन या कंपनी द्वारा किया जाता है।

नेटवर्क-आधारित और होस्ट-आधारित दोनों फ़ायरवॉल इन दिनों अधिकांश बड़े संगठनों में उपयोग किए जाते हैं। इसमें पूरे नेटवर्क की सुरक्षा के लिए नेटवर्क-आधारित फ़ायरवॉल और प्रत्येक होस्ट के लिए होस्ट-आधारित फ़ायरवॉल का उपयोग शामिल है। ऐसा करने से यह अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करता है। क्योंकि भले ही हानिकारक डेटा किसी कारण से नेटवर्क फ़ायरवॉल से गुजरता हो, फिर भी इसे रोकने के लिए प्रत्येक कंप्यूटर पर होस्ट आधारित फ़ायरवॉल होंगे।

फ़ायरवॉल के मुख्य कार्य तथा फायदे? Firewall ke mukhy karya tatha fayde?

फ़ायरवॉल के कार्य की बात करें तो इसका मुख्य कार्य पब्लिक इंटरनेट से आने वाले डेटा पैकेट को फ़िल्टर करना और निजी नेटवर्क में अनधिकृत डेटा पैकेट के प्रवेश को रोकना है।
फ़ायरवॉल किसी नेटवर्क में एक Pre-Defined Rule के आधार पर, यानी उसमें दी गई अनुमतियों के अनुसार ट्रैफ़िक तक पहुँच की अनुमति देता है।
फ़ायरवॉल अवांछित ट्रैफ़िक को रोकता है और ट्रैफ़िक को नेटवर्क तक पहुँचने की अनुमति देता है, इसलिए फ़ायरवॉल का उद्देश्य निजी नेटवर्क और सार्वजनिक इंटरनेट के बीच अवैध गतिविधि से बचाव करना है।
फ़ायरवॉल का कार्य हमेशा हैकर्स या किसी अन्य अवैध उपयोगकर्ता द्वारा भेजे गए दुर्भावनापूर्ण ट्रैफ़िक से इंटरनेट की रक्षा करना भी है जो नुकसान पहुंचाने के लिए निजी नेटवर्क में प्रवेश करने का प्रयास करता है।
फ़ायरवॉल किसी नेटवर्क या होस्ट में अनधिकृत रिमोट एक्सेस को रोकने के लिए काम करता है।

Conclusion (निष्कर्ष):

दोस्तों आज हमने इस लेख के माध्यम से Firewall kya hai के बारे में जानने की कोशिश की है, हम आशा करते हैं कि इस लेख की सहायता से आपको Firewall kya hai के बारे में बहुत कुछ पता चल गया होगा, फिर भी किसी भी प्रकार का भ्रम बना हुआ है। यदि हां, तो बेझिझक टिप्पणियों के माध्यम से पूछें। आपको यह लेख कैसा लगा कमेंट के माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया अवश्य दें, क्योंकि आपकी प्रतिक्रिया हम और आप दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने फ्रेंड सर्कल में ज्यादा से ज्यादा शेयर करें। ऐसे ही और आर्टिकल पढ़ते रहने के लिए Roster जुड़े रहिये….धन्यवाद!

Read more :- 

Computer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर वायरस फुल फॉर्म

Captcha Code Kya Hai: Captcha Code Meaning in Hindi | What is Captcha Code in हिंदी

Computer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर वायरस फुल फॉर्म

Computer Virus Kya Hai , Aur Kitne Prakar Ke Hote Hai – दोस्तों आज इस लेख में हम जानेंगे कि कंप्यूटर वायरस क्या है? और कितने प्रकार के होते हैं? इससे जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं।

दोस्तों आप सभी जानते हैं कि आज के समय में कंप्यूटर हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है। जिसकी हमारे जीवन में किसी न किसी रूप में आवश्यकता होती है।

वायरस से जीतना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। जिससे हमारे शरीर में कई तरह की बीमारियां फैलती हैं। ठीक उसी तरह कंप्यूटर वायरस हमारे कंप्यूटर के लिए भी उतना ही हानिकारक है।

क्योंकि वायरस कंप्यूटर में छोटे प्रोग्राम होते हैं, जो सेल्फ एक्जीक्यूटिव प्रोग्राम होते हैं जो कंप्यूटर में प्रवेश करते हैं और कंप्यूटर की कार्य प्रणाली को प्रभावित करते हैं।

तो आइए इस लेख में जानते हैं कि कंप्यूटर वायरस क्या है? कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं? (What is Computer Virus? What are the types of Computer Virusहैं) जानिए इससे जुड़ी जानकारी हिंदी में

Virus का फुल फॉर्म  (Virus full form)

वाइटल इनफार्मेशन रिसोर्सेज अंडर सीज (Vital Information Resources Under Siege)

V – Vital

I  –  Information

R – Resources

U – Under

S  – Siege 

कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is Computer Virus in Hindi)

अगर हम कंप्यूटर वायरस की बात करें तो कंप्यूटर वायरस वाइटल इंफॉर्मेशन रिसोर्सेज अंडर सीज है। जो एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है, जिसे आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को धीमा करने के साथ-साथ आपके कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर को काम करने से रोकने और कंप्यूटर के डेटा को नष्ट या दूषित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

यह वायरस किसी भी तरह से हमारे कंप्यूटर में तेज गति से प्रवेश करता है। और हमारे बहुत ही महत्वपूर्ण कंप्यूटर फाइलों और महत्वपूर्ण डेटा को हटा देता है। यह एक ऐसा वायरस है जो हमारे डेटा को नष्ट कर सकता है और इस वायरस के कारण हमारा कंप्यूटर भी हैंग हो जाता है।

कंप्यूटर वायरस का इतिहास

कंप्यूटर वायरस के इतिहास की बात करें तो सबसे पहले वायरस शब्द का इस्तेमाल कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के एक छात्र फ्रेड कोहेन ने कंप्यूटर प्रोग्राम लिखने के लिए किया था जो कंप्यूटर में प्रवेश करते ही सिस्टम पर हमला करता है। जैसे कोई वायरस हमारे शरीर में प्रवेश कर हमें संक्रमित कर देता है।

हालांकि साल 1980 में इस वायरस का पता लगाना काफी मुश्किल था, लेकिन आधुनिक वायरस में सी ब्रेन नाम का वायरस पूरी दुनिया में बहुत तेजी से फैला।

क्योंकि इस वायरस की उत्पत्ति और विशेषाधिकार वर्ष (1986) में मौजूद थे। और उस कार्यक्रम में दो पाकिस्तानी भाइयों बासित और अमजद और उनकी कंपनी का नाम और पूरा पता भी मौजूद था। लेकिन उस समय इस वायरस को गंभीरता से नहीं लिया गया था.

जब 1988 की शुरुआत में Macintosh पीस वायरस उभरा, तो वायरस को विशेष रूप से Macintosh ऑपरेटिंग सिस्टम को बाधित करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। लेकिन इस वायरस से बचने के लिए दिन-ब-दिन प्रयास चल रहे थे। और एक एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का आविष्कार किया गया है।

जिस तरह वायरस को हटाने के लिए सॉफ्टवेयर बनाया गया था, उसी तरह नए वायरस बनाए गए। और फिर एक बार फिर पूरे एंटीवायरस उद्योग को एक नए प्रकार के एंटीवायरस को विकसित करने के लिए मजबूर करना।

Computer Virus कितने प्रकार के होते है

आपको पता चल ही गया होगा कि कंप्यूटर वायरस (Computer Virus) क्या है? तो आइए अब जानते हैं कि कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं। जैसा कि नीचे लिखा है।

बूट सेक्टर वायरस (Boot Sector Virus)

Boot Sector Virus यह वायरस हार्ड डिस्क या फ्लॉपी हार्ड डिस्क या बूट सेक्टर के मास्टर बूट रिकॉर्ड (MBR) को संक्रमित करता है। ये वायरस मुख्य रूप से हटाने योग्य मीडिया के माध्यम से सिस्टम में प्रवेश करते हैं। जब कंप्यूटर चालू होता है, तो यह ऑपरेटिंग सिस्टम की लोडिंग में बाधा डालता है।

यदि यह वायरस कंप्यूटर को संक्रमित कर देता है, तो इसे फिर से कंप्यूटर से बाहर निकालना बहुत मुश्किल हो जाता है। जिसके लिए आपको सिस्टम से वायरस को हटाने के लिए सिस्टम को फॉर्मेट करना होता है।

माइक्रो वायरस (Micro Virus)

माइक्रोवायरस कोड के ब्लॉग होते हैं जो किए गए कार्यों को स्वचालित करने के लिए लिखे जाते हैं। जो विशेष रूप से कुछ प्रकार की फाइलों जैसे दस्तावेजों, स्प्रेडशीट आदि को नुकसान पहुंचाने के लिए होते हैं। मैक्रो वायरस मैक्रो प्रोग्राम के रूप में प्रच्छन्न होते हैं और उपयोग किए जाने पर डेटा को नुकसान पहुंचाते हैं।

पार्टीशन टेबल वायरस (Partition Table Virus)

Partition Table Virus यह वायरस हार्ड डिस्क के Partition Table को नुकसान पहुंचाने में सक्षम है। हालांकि, कंप्यूटर डेटा इससे डरता नहीं है। लेकिन यह हार्ड डिस्क के मास्टर बूट रिकॉर्ड को प्रभावित करता है। जैसे RAM की क्षमता कम करना, डिस्क के इनपुट और आउटपुट प्रोग्राम में समस्या पैदा करना आदि।

ब्राउज़र हाईजैक वायरस (Browser Hijacker Virus)

इंटरनेट का अत्यधिक उपयोग हमारे सिस्टम में वायरस के फैलने का मुख्य कारण है। जैसे आप किसी भी तरह की वेबसाइट, फाइल या ऑनलाइन गेम, मूवी देखते हैं। तो इससे हमारे सिस्टम में वायरस आने की संभावना बढ़ जाती है। जिससे हमारा सिस्टम काफी स्लो हो जाता है और फाइल और वेबसाइट को ओपन करने के बाद लोडिंग होती रहती है।

 

रिसाइडेन्ट वायरस (Resident Virus)

रेजिडेंट वायरस यह वायरस रैम मेमोरी में प्रवेश करके उन्हें प्रभावित करता है। साथ ही ये वायरस धीमी गति से काम करते हैं, जबकि कुछ वायरस तेज गति से काम करते हैं। क्योंकि इस वायरस को सिस्टम में फैलाने से काफी दिक्कत होती है। जैसे कॉपी-पेस्ट करना, सिस्टम को ऑपरेट करना, सिस्टम को बंद करना, ऐसे छोटे-छोटे वायरस एंटी-वायरस के साथ जुड़ जाते हैं।

फाइल वायरस (File Virus)

फाइल वायरस  (File Virus) यह वायरस कंप्यूटर पर फाइलों को काफी नुकसान पहुंचाता है और यह वायरस आपके कंप्यूटर सिस्टम के लिए भी काफी हानिकारक हो सकता है। क्योंकि यह वायरस आपके कंप्यूटर में स्टोर की गई फाइलों या डेटा को आसानी से संक्रमित कर सकता है। वह वायरस जो .COM, EXE फाइल को नुकसान पहुंचाता है, फाइल वायरस कहलाता है।

गुप्त वायरस (Stealth Virus)

स्टील्थ वायरस यह वायरस कंप्यूटर में घुसकर अपने पैच को छुपाता रहता है। और यह वायरस एंटी वायरस की चपेट में आने के डर से हर संभावना को छिपाने की कोशिश करता है। इसलिए यह वायरस अलग-अलग नामों से प्रवेश करता है और कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाने का काम करता है।

डायरेक्ट एक्शन वायरस (Direct Action Virus)

डायरेक्ट एक्शन वायरस को अनिवासी वायरस भी कहा जाता है। यह वायरस विशिष्ट एक्सटेंशन (जैसे .COM, EXE) के साथ बड़ी फ़ाइलों को संक्रमित करता है।

कंप्यूटर वायरस के कुछ प्रसिद्ध नाम (Some Famous Names of Computer Virus)

  • कोलंबस (Columbus)
  • जेरूसलेम (Jerusalem)
  • मैकमैग (McMag)
  • सी ब्रेन (C Brain)
  • डिस्क वॉशर (Disc Washer)
  • माइकल एंजिलो (Michelangelo)

कंप्यूटर वायरस के कारण (Cause of Computer Virus)

  1. तो आइए जानते हैं कि किस वजह से कंप्यूटर में वायरस आ सकते हैं, आइए जानते हैं
  2. डिवाइस को किसी दूसरे डिवाइस से कनेक्ट करने पर भी वायरस आता है। 
  3. इंटरनेट के कारण
  4. ब्लूटूथ के कारण
  5. सिस्टम में प्रोग्राम डाउनलोड करने पर ऐसे प्रोग्राम जिनमें डाउनलोड के योग्य फ़ाइलें होती हैं, मैलवेयर के सबसे बढ़िया स्रोत हैं. जैसे फ्रीवेयर, वर्म्स और अन्य निष्पादन योग्य फ़ाइलें आदि के कारण
  6. ईमेल संलग्नक
  7. ऑनलाइन एप्स

कंप्यूटर वायरस के लक्षण (Symptoms of Computer Virus)

  • सिस्टम स्लो चलाना या फिर हैंग होना
  • अनावश्यक ईमेल आगमन
  • इंटरनेट नेट पर ऑनलाइन गेम खेलना और फिल्में देखना भी इसके लक्षण है 
  • फ़ाइल प्रोग्राम अपने आप चलना
  • सिस्टम में एंटीवायरस अपडेट हो जाना
  • ब्राउज़र का उपयोग करते समय आपकी स्क्रीन पर इनकरेक्ट का मैसेज आना या चेतावनी मैसेज दिखाई देना
  • सिस्टम में अपने आप प्रोग्राम इंस्टॉल हो जाना

वायरस को रोकने के लिए सबसे बढ़िया तरीका 

  • सिस्टम एंटी वायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित करें। 
  • एंटी वायरस का सॉफ्टवयेर नियमित रूप से अपडेट करते रहना। 
  • अपने खाते का उपयोग कर ईमेल भेजें
  • सिस्टम पर सॉफ्टवेर की केवल रजिस्टर कॉपी ही इनस्टॉल करना। 
  • वायरस सिस्टम को अपने नेटवर्क से डिस्कनेक्ट करें और इसे स्कैन करें
  • फ्लॉपी डिस्क और ईमेल संदेशो को खोलने से पहले उन्हें स्कैन करे
  • इंटरनेट से बिना मतलब के सॉफ्टवेयर डाउनलोड या इंस्टॉल करने से बचे और अगर आपको फ़ाइल डाउनलोड करनी ही है, तो इसे विश्वसनीय स्रोतों से डाउनलोड करें.
  • Computer Virus FAQs

Question – कंप्यूटर वायरस की खोज किसने की?

Answer – पहला वायरस ARPANET पर खोजा गया था, जो 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले, TENEX ऑपरेटिंग सिस्टम के माध्यम से फैला था और इसका उपयोग कंप्यूटरों को नियंत्रित और संक्रमित करने के लिए किया गया था। इसके लिए किसी भी कनेक्टेड मॉडम का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह संदेश प्रदर्शित कर सकता है “मैं क्रीपर हूं, अगर आप कर सकते हैं तो मुझे पकड़ लो”, यह अफवाह थी कि रीपर प्रोग्राम, जो इसके तुरंत बाद दिखाई देता है और क्रीपर को कॉपी और हटा देता है, का उपयोग क्रीपर द्वारा किया जा सकता है। पत्र में निर्माता द्वारा माफीनामा लिखा गया था। एक आम धारणा है कि “रदर जे” नामक एक कार्यक्रम है। और यह “जंगली में” प्रकट होने वाला पहला कंप्यूटर वायरस था।

Question– प्रथम कंप्यूटर वायरस कौन सा है?

Answer – पहला कंप्यूटर वायरस क्रीपर ARPANET पर खोजा गया था, जो 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले था। यह TENEX ऑपरेटिंग सिस्टम के माध्यम से फैल गया, और यह कंप्यूटर को नियंत्रित और संक्रमित करने के लिए किसी भी कनेक्टेड मॉडेम का उपयोग कर सकता था।

Question – कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय क्या है?

Answer – कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

1. ईमेल अटैचमेंट को बिना स्कैन किये न खोलें

  1. आपने कंप्यूटर में फ़ायरवॉल (Firewall) इनस्टॉल करें
  2. Ad Blocker Install करें
  3. स्वचालित स्कैन सेट करें आपने कंप्यूटर में
  4. एक मजबूत पासवर्ड का प्रयोग करें
  5. पॉप-अप अवरोधक का प्रयोग करें
  6. आपने कंप्यूटर में एन्टीवॉयरस इनस्टॉल करें
  7. ईमेल में लिंक पर क्लिक न करें
  8. आपने कंप्यूटर का सॉफ्टवेयर हमेशा अपडेटेड रखें
  9. अपने कंप्यूटर का बैकअप लेकर रखें

Question – कंप्यूटर वायरस क्या है?

Answer – Computer वायरस Vital Information Resources Under Siege है. जो एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है, जिसे आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को धीमा करने के साथ-साथ आपके कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर को काम करने से रोकने और कंप्यूटर के डेटा को नष्ट या दूषित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जो हमारे महत्वपूर्ण कंप्यूटर फाइल्स और जरूरी डाटा को हटा देता है।

Question – कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं?

Answer – Computer Viruses कुछ इस प्रकार है –

  • Boot Sector Virus
  • Micro Virus
  • Partition Table Virus
  • Browser Hijacker Virus
  • Resident Virus
  • File Virus
  • Stealth Virus
  • Direct Action Virus 

Question – वायरस और एंटीवायरस क्या है?

Answer – Virus एक कंप्यूटर प्रोग्राम है जो खुद को कॉपी करने और आपके कंप्यूटर को संक्रमित करने की क्षमता रखता है। Antivirus एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग कंप्यूटर वायरस, Worms, Spyware, Trojan horses, Adware, and Spyware जैसे मैलवेयर को रोकने और उनका पता लगाने और हटाने के लिए किया जाता है। 

निष्कर्ष :-  मैंने आपको इस आर्टिकल में कंप्यूटर वायरस क्या है (Computer Virus Kya Hai)बताया है और कितने प्रकार के होते है कम्प्यूटर वायरस का फुल फॉर्म(computer virus ka full form) क्या होता है मैंने आपको इस आर्टिकल में वो सब कुछ बताने के कोशिस की है जो आपको कंप्यूटर वायरस क्या है से जुडी जानकारी चाहते हैं मैंने आपको आर्टिकल में जो बताया है उसमे अगर कोई कमी है तो आप मुझे कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं धन्यवाद

 

Read more :- 

Captcha Code Kya Hai: Captcha Code Meaning in Hindi | What is Captcha Code in हिंदी

VPN Kya Hai Aur Kaise Kaam Karta Hai

Captcha Code Kya Hai: Captcha Code Meaning in Hindi | What is Captcha Code in हिंदी

कैप्चा कोड । Captcha Code | Captcha Code in Hindi | Captcha in Hindi | Captcha Code Kya Hai | Captcha Code Kya Hota Hai | Captcha Code Meaning in Hindi | How to Write Captcha Code | How to Solve Captcha | What is ReCaptcha | What is I am Not Robot | How to Add Captcha in Website | Website me Captcha Code Kaise lagaye

Captcha Code Kya Hai in Hindi

Captcha Code kya hai in Hindi: इस डिजिटल दुनिया में Captcha Code क्या है। Captcha Code क्या है हिंदी में बहुत से लोग इससे बहुत परेशान हैं, आपने कई वेबसाइट पर जाकर फॉर्म भरा होगा या उस पर कमेंट किया होगा, उस समय आपको कुछ अजीब अक्षर और नंबर भरने होते हैं। दिया हुआ है। इसे भरते समय लोग बहुत सी गलतियाँ करते हैं जैसे कैपिटल I के लिए 1 लिखना या छोटे o के लिए 0 लिखना। इसमें लोगों को अल्फाबेट और नंबर पहचानने में दिक्कत होती है, क्योंकि यह कुछ अजीब तरह से लिखा गया है। यह समस्या सिर्फ आपके और मेरे लिए ही नहीं बल्कि इंटरनेट का इस्तेमाल करने वाले लगभग सभी लोगों की है।

कैप्चा कोड (Captcha Code):- कैप्चा कोड से जुड़े सवालों के जवाब देने के लिए हमने यह लेख कैप्चा कोड क्या होता है लिखा है, हम उम्मीद करते हैं कि इस लेख को देखने के बाद आपको अपने कैप्चा कोड से जुड़े सभी सवालों के जवाब मिल जाएंगे।

Captcha Code Meaning in Hindi

आपने कई तरह की वेबसाइट पर फॉर्म भरा होगा या किसी ब्लॉग वेबसाइट पर कमेंट किया होगा। जब आप कोई ऑनलाइन फॉर्म भरते हैं या किसी ब्लॉग वेबसाइट पर कमेंट करने की कोशिश करते हैं, तो आपके सामने कुछ अजीब अक्षर दिखाई देते हैं, जिन्हें आपको साइड में टेक्स्ट बॉक्स में भरने के लिए कहा जाता है। हम उन अजीब पात्रों को कैप्चा कहते हैं।

Captcha Code Kya Hai in Hindi 

अगर आपने कभी किसी वेबसाइट पर रजिस्टर करने की कोशिश की है या किसी ब्लॉग पर कमेंट किया है और वहां आपको कुछ ऐसे अजीबोगरीब चरित्र दर्ज करने के लिए कहा गया है और आप उससे परेशान भी हैं, तो कोई बात नहीं, लगभग सभी लोग परेशान हो जाते हैं। आपकी स्क्रीन पर दिखाई देने वाले इन पागल पात्रों को कैप्चा कोड कहा जाता है। अब आप सोच रहे होंगे कि ऑनलाइन वेबसाइटों में इस अजीब तरह के कोड का इस्तेमाल क्यों किया जाता है। तो आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस तरह के कोड का इस्तेमाल कंप्यूटर और इंसानों को अलग-अलग बताने के लिए किया जाता है. अगर आप Captcha Code से सम्बंधित और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो ब्लॉग को अंत तक पढ़ें।

Captcha Code Kya Hota Hai

Captcha Code – Captcha Code की मदद से हम वेबसाइट या किसी ऐप पर पता लगा सकते हैं कि इनपुट देने वाला इंसान है या बॉट। दोस्तों हम आपको बता दें कि कैप्चा कोड का फुल फॉर्म भी होता है Captcha Code का Full Form “Completely Automated Public Turing Test To Tell Computers And Humans Apart” होता है।

Captcha, ReCaptcha Code और I am Not Robot क्या है?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि Captcha Code का इस्तेमाल सबसे पहले Yahoo Search Engine ने साल 2000 में किया था. कई जगहों पर आपने I Am Not Robot वाले शख्स को देखा होगा शायद आपको वहां इसका मतलब समझ में नहीं आया होगा. इसका मतलब है कि आप इंसान हैं, आप किसी भी तरह के बॉट नहीं हैं, मैं रोबोट कोड नहीं हूं या आपने Google रीकैप्चा कोड देखा होगा, ये दोनों कोड Google Captcha Code के Algorithm पर काम करते हैं।

Captcha Code Number का उपयोग केवल Website पर Spam को रोकने के लिए होता है, बहुत से लोग आपकी Website पर Invalid Traffic यानी Bots भेजने के लिए गलत तरीके का इस्तेमाल करते हैं जो कि आपकी वेबसाइट के लिए पूरी तरह से हानिकारक है। कैप्चा कोड नंबर का उपयोग केवल वेबसाइट को स्पैम से बचाने के लिए किया जाता है। अगर कोई आपसे पूछे कि Captcha Code क्या है तो आप आसान शब्दों में बता सकते हैं कि Captcha Code एक ऐसी Security Check Technique है जिससे हम इंसानों और bots के बीच के अंतर को समझ सकते हैं।

कैप्चा कोड का उपयोग क्यो किया जाता है?

Captcha Code (Captcha Code) का इस्तेमाल वेबसाइट को स्पैम से बचाने के लिए किया जाता है, इसकी मदद से आप इंसानों और बॉट्स में फर्क कर सकते हैं। वेबसाइट पर कैप्चा कोड डालने का केवल एक ही उद्देश्य होता है, वह है वेबसाइट को हैकर्स और स्पैमर से बचाना।

ReCaptcha Kya Hai

Recaptcha Google द्वारा प्रदान की जाने वाली एक निःशुल्क सेवा है, इसे वेबसाइट पर इंस्टॉल करके आप अपनी वेबसाइट को स्पैमर से बचा सकते हैं। यह भी Captcha Code की तरह है और इसे आसानी से वेबसाइट या वेब पेज पर इनस्टॉल किया जा सकता है।

VPN Kya Hai Aur Kaise Kaam Karta Hai

इसका काम बिल्कुल Captcha Code की तरह है, यह आपकी वेबसाइट को Human और Bots के बीच का अंतर भी बताता है। अब आप समझ ही गए होंगे कि Recaptcha क्या है.

Captcha Code Full Form in Hindi

कैप्चा कोड Captcha Code का Full Form “Completely Automated Public Turing Test To Tell Computers And Humans Apart” होता है।

Captcha Code से क्या लाभ है?

इस तरह से देखा जाए तो वेबसाइट पर कैप्चा कोड डालने के कई फायदे हैं, लेकिन उनमें से कुछ हम आपको बता रहे हैं।

  • वेबसाइट को स्पैम से बचाना।
  • वेबसाइट पर बॉट्स को ब्लॉक करना।
  • वेबसाइट में स्पैम टिप्पणियां रोकें।
  • वेबसाइट पर स्पैम उपयोगकर्ता पंजीकरण को रोकना।
  • इसके अलावा वेबसाइट पर Captcha Code लगाने के और भी कई फायदे हैं।
  • आपको इसे अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर डालना होगा।

अगर आप भी इन सभी फायदों को लेना चाहते हैं और अपनी वेबसाइट को स्पैम फ्री रखना चाहते हैं तो Captcha Code का इस्तेमाल जरूर करें।

Types of Captcha in Hindi

वैसे तो Captcha के प्रकार कई प्रकार के होते हैं लेकिन आज हम आपको Captcha के कुछ महत्वपूर्ण प्रकार के बारे में बताएंगे।

Text Captcha :- इस प्रकार के Captcha Code में आपको Alphabet और Numbers से बने Codes की एक Series दिखाई देगी, इसमें सही Alphabet की पहचान करना बहुत जरूरी है। टेक्स्ट कैप्चा में अक्षरों के अनुक्रम को सही ढंग से लिखना भी आवश्यक है, जैसे कि कैप्चा में कैपिटल लेटर दिया गया है तो आपको उसी फॉर्मेट में लिखना होगा और अगर कोई छोटा अक्षर है तो आपको उसे छोटे अक्षर में ही लिखना होगा। .

Image Captcha:- Image Captcha भी Captcha Code का ही एक तरीका है, इसमें आपको बहुत से Image यानि फोटोज दिखाई जाएंगी, जिनमें से आपको सही फोटो को पहचान कर चुनना होता है. अगर आप किसी इमेज को सही से नहीं पहचान पा रहे हैं तो आप इस Captcha को वेरिफाई नहीं कर पाएंगे।

Audio captcha:- ऑडियो कैप्चा में आपको आवाज यानि ऑडियो सुनाई देगा और जो आप सुनेंगे उसे सुनने के बाद आपको वहां दिए गए टेक्स्ट बॉक्स में भरना होगा। अगर आपको जरा सा भी कुछ गलत सुनाई देता है तो वह Captcha Verify नहीं होगा।

Math solving captcha:- इस प्रकार के कैप्चा में आपसे मैथ से जुड़े कुछ छोटे-छोटे प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनके उत्तर आपको दिए गए टेक्स्ट बॉक्स में भरने होते हैं, जैसे (2 + 2 =?) | यदि आप इस प्रकार के कैप्चा में गलत उत्तर देते हैं तो यह सत्यापित नहीं होगा।

NLP Captcha :- इस प्रकार के Captcha का प्रयोग एडवरटाइजिंग बेस्ड वेबसाइट पर किया जाता है, यहाँ पर आपको कुछ विज्ञापन दिखाए जाते हैं और उसी से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं जिनका आपको उत्तर देना होता है।

तो ये थे कुछ महत्वपूर्ण प्रकार के Captcha Code।

How to Solve Captcha Code in Hindi 

आपको या मुझे सभी लोगों के लिए Captcha code को हल करना एक मुश्किल काम लगता है, लेकिन मैं आपको बता दूं कि Captcha Code को हल करना बहुत ही आसान है। आप कैप्चा कोड को हल करते समय जल्दी में हैं, यदि आप कैप्चा को आसानी से समझ और हल कर लेंगे, तो आपको किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा।

दोस्तों अगर आपके सामने Image Captcha आ रहा है तो आपको Image को सही से पहचानना है और पूछे गए Photo को Select करना है तभी आपका Captcha Verify हो सकेगा. 

वेबसाइट में CAPTCHA CODE कैसे ADD करें

दोस्तों आप किसी भी वेबसाइट पर जो भी Captcha देखते हैं, Captcha Provider ज्यादातर Captcha Script प्रदान करता है। आप google की मदद से Captcha Code को अपनी वेबसाइट में भी ऐड कर सकते हैं।

इसके अलावा अगर आपको Scripting Language का ज्ञान है तो आप अपना खुद का Captcha Code भी बना सकते हैं। लेकिन अगर आपको प्रोग्रामिंग और स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज का ज्ञान नहीं है, तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। Captcha को आप बिना जाने भी आसानी से अपनी वेबसाइट पर डाल सकते हैं।

अगर आपकी वेबसाइट WordPress में है तो आप आसानी से Plugin Download करके कैप्चा इंस्टॉल कर सकते हैं। दोस्तों अगर आपको Technical Knowledge नहीं है तो भी कोई दिक्कत नहीं है। आप अब भी आसानी से Captcha को अपनी वेबसाइट में जोड़ सकते हैं।

Conclusion

दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि Captcha Code क्या है से जुड़ा हमारा यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा और आपको आपके सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा। अगर आपको हमारा यह ब्लॉग पसंद आया हो तो इसे शेयर करना ना भूलें और हमें ऐसे ही सपोर्ट करें ताकि हम आपके लिए ऐसे ही अच्छे ब्लॉग लेकर आते रहें। आपको धन्यवाद

कैप्चा कोड अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Captcha Code का फुल फॉर्म क्या है?

कैप्चा कोड का पूर्ण रूप “कंप्लीटली ऑटोमेटेड पब्लिक ट्यूरिंग टेस्ट टू टेल कंप्यूटर एंड ह्यूमन अलग” है।

कैप्चा कोड क्या है?

Captcha Code की मदद से हम वेबसाइट या किसी ऐप पर पता लगा सकते हैं कि इनपुट देने वाला इंसान है या रोबोट।

कैप्चा कोड का उपयोग क्यों किया जाता है?

Captcha Code का इस्तेमाल वेबसाइट को Spam से बचाने के लिए किया जाता है, इसकी मदद से आप इंसानों और bots में फर्क कर सकते हैं। वेबसाइट पर कैप्चा कोड डालने का केवल एक ही उद्देश्य होता है, वह है वेबसाइट को हैकर्स और स्पैमर से बचाना।

वेबसाइट में CAPTCHA CODE कैसे ADD करें?

Captcha आप किसी भी वेबसाइट पर जो भी देखते हैं, Captcha Provider अधिकांश Captcha Script प्रदान करता है। आप google की मदद से Captcha Code को अपनी वेबसाइट में भी ऐड कर सकते हैं।

I am Not Robot क्या है?

Captcha Code Number का इस्तेमाल सिर्फ Website पर Spam को रोकने के लिए होता है बहुत से लोग आपकी Website पर Invalid Traffic यानी Bots भेजने के लिए गलत तरीके का इस्तेमाल करते हैं जो कि आपकी वेबसाइट के लिए पूरी तरह से हानिकारक है। कैप्चा कोड नंबर का उपयोग केवल वेबसाइट को स्पैम से बचाने के लिए किया जाता है।

Read more article:- 

WhatsApp Payment Process की सम्पूर्ण जानकरी In Hindi

VPN Kya Hai Aur Kaise Kaam Karta Hai

VPN Kya Hai और इसका उपयोग क्यों और कैसे किया जाता है। आज हम इसी के बारे में बात करेंगे, वीपीएन के बारे में बहुत कम लोगों को पता होगा, अगर आप भी यह बात नहीं जानते हैं तो इस लेख में हम इसके बारे में बात करेंगे।

आज हम अपने लेख के माध्यम से वीपीएन के बारे में जानेंगे, तो दोस्तों आज हम बात करते हैं कि VPN Kya Hai और इसका उपयोग क्यों किया जाता है।
VPN से फायदा के साथ-साथ नुकसान भी हैं, इसलिए इस लेख को ध्यान से देखें, इसका उपयोग कैसे करें, बहुतों को इसकी जानकारी नहीं होगी, इसलिए आज हम इसे विस्तार से जानेंगे।

तो चलिए सबसे पहले ये जानते है की VPN Kya hai?

VPN Kya Hai (What is VPN in Hindi) ?

VPN – वीपीएन एक ऐसी सेवा है जो आपके डेटा को लीक होने से बचाती है। वीपीएन या वीपीएन का पूरा नाम है {वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क} वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क।

  1. यह आपके डेटा को लीक होने से बचाता है, और आपको ऑनलाइन प्राइवेसी देता है। वीपीएन आपके आईपी पते को भी छुपाता है, जिससे आप अपनी पहचान को ऑनलाइन निजी रख सकते हैं।
  2. वीपीएन एक नेटवर्क तकनीक है जो इंटरनेट नेटवर्क और वाई-फाई जैसे निजी नेटवर्क से सुरक्षित कनेक्शन बनाती है।
  3. अगर माना जाए तो वीपीएन आपके व्यक्तिगत डेटा और नेटवर्क को सभी हैकर्स और कई लोगों से बचाने का एक बहुत अच्छा तरीका है। एक वीपीएन के साथ, आप अपने व्यक्तिगत नेटवर्क और डेटा को पूरी तरह से सुरक्षित कर सकते हैं।वीपीएन सेवा का उपयोग ज्यादातर ऑनलाइन व्यवसायी, सरकारी कर्मचारी, शैक्षणिक संस्थान और ऐसे लोग करते हैं जिन्हें अपना डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रखना होता है।
  4. वीपीएन सभी प्रकार के डेटा को सुरक्षित रखता है, जैसे कि आपके लिए क्या उपयोगी है और क्या नहीं भी बहुत अच्छी तरह से बनाए रखा है। आप इस सेवा का उपयोग अपने कंप्यूटर और फोन पर भी वीपीएन ऐप के जरिए कर सकते हैं।

VPN Full Form & Meaning In Hindi

VPN का फूल फ्रॉम होता है – वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क ( Virtual Private Network ) होता है।

VPN कैसे काम करता है (How VPN Works in Hindi) ?

एक वीपीएन का सबसे महत्वपूर्ण काम है अपने व्यक्तिगत डेटा या कंप्यूटर या फोन पर आप जो भी काम कर रहे हैं, उसे पूरी तरह से सुरक्षित रखना।

और वीपीएन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इंटरनेट पर जो भी प्रतिबंध हैं, जैसे कुछ वेबसाइटें हैं, जिन्हें हम आसानी से नहीं देख सकते हैं, हम इसे एक्सेस नहीं कर पा रहे हैं, इस वीपीएन को वेबसाइट तक आसानी से एक्सेस और एक्सेस किया जा सकता है। आसानी से दिखाता है। यानी जिस वेबसाइट को खोलने की इजाजत भी नहीं थी, वह वीपीएन के जरिए आसानी से देख पाएगा.

वीपीएन का यूज कैसे करते हैं? (How to Use VPN in Hindi)

एक वीपीएन का सबसे महत्वपूर्ण काम है अपने व्यक्तिगत डेटा या कंप्यूटर या फोन पर आप जो भी काम कर रहे हैं, उसे पूरी तरह से सुरक्षित रखना।

और वीपीएन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इंटरनेट पर जो भी प्रतिबंध हैं, जैसे कुछ वेबसाइटें हैं, जिन्हें हम आसानी से नहीं देख सकते हैं, हम इसे एक्सेस नहीं कर पा रहे हैं, इस वीपीएन को वेबसाइट तक आसानी से एक्सेस और एक्सेस किया जा सकता है। आसानी से दिखाता है। यानी जिस वेबसाइट को खोलने की इजाजत भी नहीं थी, वह वीपीएन के जरिए आसानी से देख पाएगा.

उस वेबसाइट को अपने फोन और कंप्यूटर में डालकर और सर्च करने के बाद बताता है कि यह हमारे देश में ब्लॉक है तो वीपीएन अपना काम शुरू कर देता है, यूजर की रिक्वेस्ट वीपीएन के जरिए उस ब्लॉक वेबसाइट के सर्वर पर भेज दी जाती है। उसके बाद उपयोगकर्ता के डिवाइस में सभी विवरण सामग्री और जानकारी दिखाई देती है।

हमारी जरूरत की तकनीक, ताकि हम अपनी पहचान को सुरक्षित रख सकें, वीपीएन खुद को बचाने के लिए सबसे सुरक्षित है। यानी स्पष्ट रूप से जानने के लिए, वीपीएन आपके अपने डेटा या नेटवर्क को सुरक्षित रखने के लिए उपयोगी है।

वीपीएन का यूज कैसे करते हैं? (How to Use VPN in Hindi)

अब हम कुछ जानते हैं कि VPN Kya Hai, यह कैसे काम करता है। अब इसके बारे में जानने के लिए कि इसका उपयोग कैसे किया जाता है, तो आइए अब इसका उपयोग करने के तरीके के बारे में जानते हैं-:

1. आप जिस भी चीज में वीपीएन का इस्तेमाल करना चाहते हैं, उसे पहले इनस्टॉल करना होगा, फिर इन एप्स को ओपन करना होगा। अब इसके ऊपर की तरफ आपको मेन्यू का विकल्प दिखाई देगा, उस पर क्लिक करें, फिर सेटिंग पर क्लिक करें।

2. सेटिंग पर क्लिक करने या ओपन करने के बाद आपके सामने सिक्योरिटी एंड प्राइवेसी का ऑप्शन आएगा उस पर क्लिक करने के बाद वीपीएन का ऑप्शन आएगा वहां आपको इनेबल वीपीएन पर टिक करना होगा।

3. ऐसा करने से वीपीएन को इनेबल करने से आपका ओपेरा ब्राउजर एक्टिवेट हो जाएगा, अब आप इसमें सभी ब्लॉक की गई वेबसाइटों को एक्सेस कर सकते हैं।

4. उसके बाद आपको ब्राउजर के यूआरएल के पास वीपीएन लिखा हुआ दिखाई देगा, उस पर क्लिक करके आप इसे अपनी जरूरत के हिसाब से ऑन/ऑफ कर सकते हैं, इसके साथ आप जहां चाहें अपनी लोकेशन भी बदल सकते हैं।

Computer के लिए Best Windows VPN Software

वैसे तो इंटरनेट पर कंप्यूटर के लिए बहुत सारे वीपीएन सॉफ्टवेयर उपलब्ध हैं, लेकिन उनमें से सही चुनाव करना बहुत मुश्किल है। इसलिए हमने 10 सर्वश्रेष्ठ विंडोज वीपीएन सॉफ्टवेयर की एक सूची तैयार की है, जिसे आप अपने कंप्यूटर पर इंस्टॉल कर सकते हैं और अपनी पहचान बचा सकते हैं।

वैसे इसमें एक और बात ध्यान देने वाली है कि इसमें फ्री और पेड दोनों तरह की सर्विस दी जाती है, अगर आप एक नॉर्मल यूजर हैं तो ध्यान देने वाली बात यह है कि आप फ्री वीपीएन सर्विस का इस्तेमाल करते हैं।

  1. CyberGhost
  2. Hotspot Shield
  3. ExpressVPN
  4. Finch VPN
  5. ZPN connect
  6. NordVPN
  7. Windsribe
  8. Total VPN
  9. OpenVPN
  10. Tunnel Bear
  11. Zenmate
  12. SurfEasy

इन सभी ऐप्स में से आप जो चाहें इस्तेमाल कर सकते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि आप paid और free देखने के बाद ही इसका इस्तेमाल करें।

SmartPhone या Mobile में VPN कैसे Set करे ?

अगर आप स्मार्टफोन या मोबाइल फोन में वीपीएन सेट करना चाहते हैं तो घबराने की जरूरत नहीं है, आज हम आपको बताएंगे कि इसे कैसे सेट करना है, यह बहुत आसान है।

आपको बस इतना करना है कि अपने मोबाइल फोन के प्ले स्टोर (एंड्रॉइड) या ऐप स्टोर – ऐप्पल (आईओएस) से सबसे पहले अपने फोन पर वीपीएन ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करें। तो आइए जानते हैं इसे मोबाइल फोन में कैसे इस्तेमाल करें-:

1. सबसे पहले अपने स्मार्टफोन में एक वीपीएन ऐप डाउनलोड करें, जैसे विंडसाइड, पहले टर्बो वीपीएन डाउनलोड और इंस्टॉल करें।

2. इंस्टॉल करने के बाद उस ऐप को ओपन करें, फिर उसमें अपनी मनचाही लोकेशन सेट करें। इतना करने के बाद आपको सामने कनेक्ट, कनेक्ट करने का विकल्प दिखाई देगा।

3. जैसे ही आप इसे कनेक्ट करेंगे, उसके बाद आपके स्मार्टफोन या मोबाइल फोन में वीपीएन नेटवर्क एक्टिवेट हो जाएगा।

SmartPhone के लिए Best VPN Apps क्या हैं?

मैंने स्मार्टफोन के लिए बेस्ट वीपीएन एप्स की लिस्ट तैयार की है, जो इस प्रकार हैं, जिन्हें आप अपनी जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल कर सकते हैं।

  1. ExpressVPN (Best VPN service with strong security)
  2. Windscribe
  3. NordVPN
  4. Tiger VPN
  5. SaferVPN
  6. Buffered VPN

इन सभी ऐप्स में से आप उन ऐप्स को इंस्टॉल कर सकते हैं जो आपको आसान लगते हैं और अपनी जरूरत के हिसाब से इस्तेमाल करते हैं।

VPN Use करने के फायदे और नुकसान (Pros and Cons of Using VPN in Hindi)

कहा जाता है कि हर चीज के इस्तेमाल के फायदे के साथ-साथ नुकसान भी होते हैं, ठीक उसी तरह वीपीएन ऐप का इस्तेमाल करने के कई फायदे भी होते हैं, लेकिन इसके कई नुकसान भी होते हैं।

अगर इसका सही तरीके से इस्तेमाल नहीं किया गया तो इसके नुकसान भी हैं।

जैसा कि आज हम आपको बताने जा रहे हैं, इस पर अपने लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि इसका उपयोग कैसे करना है, ताकि नुकसान से बचा जा सके। VPN ऐप्स से भी काफी नुकसान होता है, इसलिए इसे सही तरीके से इस्तेमाल करने के तरीकों को ध्यान से देखें जो इस प्रकार हैं।

VPN Use करने के फायदे क्या हैं (What are the advantages of using a VPN in Hindi)?

तो आइए जानते हैं वीपीएन का इस्तेमाल करने से क्या-क्या फायदे होते हैं, आइए इसके फायदों के बारे में पूरी जानकारी लेते हैं।

1. कैसे यह किसी सार्वजनिक कनेक्शन को सुरक्षित रूप से एक्सेस करने में मदद करता है-: कई बार ऐसा समय आता है, या कई लोगों को मुफ्त इंटरनेट के चक्कर में वाई-फाई कनेक्शन का उपयोग करना पड़ता है, लेकिन वे बहुत सुरक्षित नहीं होते हैं, तो ऐसे में, वीपीएन ऐप्स की मदद से हम अपनी पहचान छुपाकर अपना डेटा सुरक्षित कर सकते हैं और सुरक्षित ब्राउज़र कर सकते हैं।

2. ये ऐप्स ऑनलाइन सुरक्षा बढ़ाते हैं-: जब ऑनलाइन सुरक्षा की बात आती है, तो वीपीएन के माध्यम से इंटरनेट ब्राउज़ करना वास्तव में बहुत सुरक्षित है।

यह आपके डेटा और वेब डेटा को बहुत सुरक्षित और अच्छी तरह से सुरक्षित रखता है। अगर हम इसके बारे में दूसरी भाषा में बात करते हैं, तो यह एक मजबूत एंटीवायरस और एक मजबूत फ़ायरवॉल, साथ ही एक वीपीएन होने के कारण हमारी सुरक्षा में एक अतिरिक्त परत जोड़ता है।

3. यह आपको कहीं से भी कोई भी शो देखने में मदद करता है-: जियो प्रतिबंध बहुत कष्टप्रद है, लेकिन ऐसा होता है।

ऐसे में एक वीपीएन आपकी बहुत मदद करता है, जियो लोकेशन ब्लॉक की गई वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए इसमें कोई रोक-टोक नहीं है जो आपको कोई भी शो देखने से रोक सके।

4. गुमनाम रूप से कुछ भी डाउनलोड किया जा सकता है: – अगर आपकी इंटरनेट सेवा किसी भी वेबसाइट को खुलने और काम करने से रोकती है, तो आप उस फाइल को किसी भी रूप में वी पी एन सेवा के माध्यम से डाउनलोड और उपयोग कर सकते हैं।

5. आपकी व्यक्तिगत जानकारी को छुपाने में मदद करता है।

6. यह आपको फायरवॉल को बायपास करने में भी मदद करता है।

VPN Use करने के नुकसान क्या हैं (What are the disadvantages of VPN in Hindi)?

तो चलिए फिर से जानते हैं, VPN इस्तेमाल करने से क्या-क्या नुकसान होते हैं, तो जानते हैं नुकसान के बारे में पूरी जानकारी।

1. सबसे विश्वसनीय वीपीएन फ्री नहीं होते:- वैसे तो आपको कई फ्री वीपीएन सर्विस मिल जाएगी, लेकिन सभी की एक लिमिट होती है, जैसे 2 जीबी, 5 जीबी उसके बाद फ्री नहीं होते हैं, इसलिए आपको एक पेड मंथली सब्सक्रिप्शन का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। .

2. अच्छी कनेक्शन गति के लिए आपको एक अच्छा शोध करना होगा: – वीपीएन अक्सर सभी नेटवर्क ट्रैफ़िक को एन्क्रिप्ट करता है, क्योंकि यह बहुत सारे संसाधनों का उपयोग करता है जो इंटरनेट कनेक्शन को बहुत धीमा कर देता है, इसलिए आप बेहतर गति के लिए, आप भुगतान किए गए / का उपयोग कर सकते हैं। प्रीमियम वीपीएन सेवा।

3. सभी उपलब्ध वीपीएन पर भरोसा नहीं किया जा सकता है:- शायद आप सभी जानते होंगे कि वीपीएन आईपी अक्सर अद्वितीय नहीं होते हैं, इसे कई लोगों के साथ साझा किया जाता है, इस वजह से कई सुरक्षा मुद्दे हैं। जैसा कि आईपी एड्रेस ब्लैकलिस्ट और आईपी स्पूफिंग होने की अधिक संभावना है, जितना संभव हो उतना सम्मानित, भरोसेमंद वीपीएन का उपयोग करना बेहतर है।

4. कभी-कभी वीपीएन अधिक जटिल हो सकते हैं: – जैसे कुछ VPN simple होते हैं, वैसे ही कुछ वीपीएन बहुत complex होते हैं। इसका मतलब यह है कि VPN को setup करने का procedure ही कॉम्प्लेक्स होता है, जिसके कारण कई उपयोगकर्ता इसका इस्तेमाल करने से दूर भागते हैं।

5. आपको कनेक्शन टूटने का सामना करना पड़ सकता है।

Conclusion on VPN Kya Hai (VPN पर निष्कर्ष)

तो दोस्तों आज हमने वीपीएन के बारे में जानकारी ली कि वीपीएन क्या है (VPN Kya Hai), तो उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी, अगर आप इस जानकारी से संतुष्ट हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। जिससे दुसरे लोग भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते है और जिन्हें VPN के बारे में नहीं पता वो जान सकते है.

हम एक और बात को आवश्यक समझते हैं, जो हम आपको बता रहे हैं कि पीएम जैसी यह सेवा भी ऑनलाइन सुरक्षा और गोपनीयता देने के लिए है, इसलिए हम इसका उपयोग अपने लाभ के लिए कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :-

WhatsApp Payment Process की सम्पूर्ण जानकरी In Hindi

Top 10 laptop data recover software

WhatsApp Payment Process की सम्पूर्ण जानकरी In Hindi

WhatsApp Payment Process In Hindi [Pay with WhatsApp.] WhatsApp ने Paymant के नए फीचर को अपडेट किया है ताकि आप WhatsApp से भुगतान कर सकें. हम इस WhatsApp Payment Process In Hindi पोस्ट में स्टेप बाय स्टेप जानेंगे कि WhatsApp से Payment करने की प्रक्रिया क्या है।

आप सभी व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते होंगे, लगभग सभी लोग व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अब आप व्हाट्सएप के जरिए किसी को भी पैसे भेज सकते हैं और किसी अन्य व्हाट्सएप यूजर से अपने अकाउंट में पैसे भी प्राप्त कर सकते हैं। आज इस पोस्ट में हम इसी के बारे में बात करेंगे।

WhatsApp Payment क्या है

पहले हम केवल व्हाट्सएप से चैट, वीडियो कॉल, वॉयस कॉल कर सकते थे या किसी को भी मल्टीमीडिया फाइल, दस्तावेज, लोकेशन आदि भेजते थे। लेकिन अब WhatsApp ने भुगतान का एक नया विकल्प लॉन्च किया है, जिससे अब आप WhatsApp Payment के माध्यम से किसी को भी पैसे भेज और प्राप्त कर सकते हैं, जो बहुत ही सरल और आसान है।

WhatsApp Payment से आप सीधे अपने बैंक खाते में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।

व्हाट्सएप पेमेंट्स को नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के साथ साझेदारी में डिजाइन किया गया है व्हाट्सएप पर एनपीसीआई पेमेंट फीचर भीम यूपीआई द्वारा संचालित है।

WhatsApp Payment Use करने के लिए किन चीजों की जरुरत होगी?

WhatsApp से भुगतान के लिए आपके पास एक बैंक खाता होना चाहिए, जिस मोबाइल नंबर का आप WhatsApp भुगतान के लिए उपयोग करना चाहते हैं, वह मोबाइल नंबर बैंक खाते से जुड़ा होना चाहिए, उसी नंबर पर WhatsApp का भी उपयोग किया जाना चाहिए. Upi Pin होना जरूरी है, तभी आप WhatsApp Payment का इस्तेमाल कर सकते हैं वरना आप नहीं कर पाएंगे क्योंकि Payment करने के लिए Upi PIN की जरूरत होती है।

How Do I Enable Payment Option On WhatsApp व्हाट्सएप्प पर पेमंट विकल्प को चालू कैसे करें??

व्हाट्सएप पर पेमेंट ऑप्शन को इनेबल करने का एक आसान तरीका है। अगर आप अपने फोन में व्हाट्सएप का पुराना वर्जन इस्तेमाल करते हैं तो पेमेंट का ऑप्शन नहीं दिखेगा इसलिए आपको गूगल प्ले स्टोर से अपना व्हाट्सएप अपडेट करना होगा, उसके बाद पेमेंट ऑप्शन इनेबल हो जाएगा।

व्हाट्सएप पेमेंट कैसे काम करता है?

Whatsapp Upi के बेस पर काम करता है। WhatsApp पर पेमेंट करने के लिए आपको UPI पिन का इस्तेमाल करना होगा तभी आप किसी को पेमेंट कर सकते हैं।

Whatsapp Payment Option Release Date??

व्हाट्सएप ने 06/दिसंबर/2020 को व्हाट्सएप के माध्यम से भुगतान करने का विकल्प लॉन्च किया है, जिसे अब हम व्हाट्सएप के माध्यम से भी भुगतान कर सकते हैं।

Whatsapp Payment Option Show?

व्हाट्सएप में पेमेंट का ऑप्शन दो जगह आता है, व्हाट्सएप ओपन करते ही 3 डॉट्स के ऊपर एक ऑप्शन दिखाई देता है, फिर व्हाट्सएप के लिए पेमेंट का ऑप्शन दिखाई देता है, दूसरा ऑप्शन किसी से चैट करते समय दिखाई देता है जो कि नीचे है। Files tab का एक Option होता है उसी में WhatsApp Paymant का आप्शन मिलता है अगर आपके मोबाइल में Payment का Option नहीं आ रहा है तो Google Play से WhatsApp Update करें उसके बाद आप्शन दिखाई देगा.

कंप्यूटर में WhatsApp Paymant का Use कर सकते हैं?

नहीं, आप कंप्यूटर या लैपटॉप में व्हाट्सएप पेमेंट का उपयोग नहीं कर सकते क्योंकि पीसी में इसका विकल्प नहीं दिया गया है, यह केवल मोबाइल फोन में उपयोग के लिए है।

Whatsapp Payment Method क्या है?

आपको अपने एंड्रॉइड फोन में व्हाट्सएप डाउनलोड करना होगा, फिर आपको मोबाइल नंबर दर्ज करके व्हाट्सएप में एक खाता बनाना होगा और बैंक विवरण जमा करना होगा और मोबाइल नंबर को बैंक विवरण के साथ सत्यापित करना होगा।

Step1: WhatsApp Paymant Setups कैसे करें?

स्टेप वन में व्हाट्सएप ओपन करें सबसे पहले अगर आपने अपना व्हाट्सएप डाउनलोड नहीं किया है तो सबसे पहले इसे गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करें और अकाउंट बनाएं।

स्टेप 2: व्हाट्सएप के राइट साइड में 3 डॉट्स पर क्लिक करें।

व्हाट्सएप खोलने के बाद ऊपर दाईं ओर 3 डॉट्स दिखाई देते हैं, उस डॉट पर क्लिक करें, उसके बाद भुगतान विकल्प दिखाई देता है, भुगतान के विकल्प पर क्लिक करें और आप भुगतान विधि जोड़ें / नया भुगतान प्रक्रिया में से किसी एक को चुन सकते हैं भुगतान प्रक्रिया समान है .

Step3: Select Bank

पेमेंट ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आप पेमेंट पेज पर जाएंगे, अब इस पेज में Add Paymant Medhod के ऑप्शन पर क्लिक करें या न्यू पेमेंट पर क्लिक करें, अब सभी बैंकों की लिस्ट खुल जाएगी, जिसमें से उस बैंक को सेलेक्ट करें जिसमें आपका खाता है।

Step4: Verify Phone नंबर

इस स्टेप में आपसे मोबाइल नंबर वेरीफाई करने के लिए कहा जाएगा, मोबाइल नंबर वेरिफिकेशन के लिए आपके फोन नंबर पर एक एसएमएस आएगा, नीचे Verify SMS के ऑप्शन पर क्लिक करें।

Step5: एक्सेस फोन डेटा के लिए अनुमति की अनुमति दें

अपने फोन में कुछ डेटा को एक्सेस करने के लिए अनुमति मांगेगा इसको Allow करे।

Step6: फोन नंबर Verification के लिए सिम का Verification करें

अगर आप अपने फोन में एक से ज्यादा सिम का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उस सिम को सेलेक्ट करें जो बैंक से लिंक है, सिम चुनने के बाद ऑटोमेटिक मोबाइल नंबर वेरिफाई हो जाएगा।

Step7: बैंक खातों को मोबाइल नंबर से लिंक कराना

जब आपका मोबाइल नंबर Verified हो जाएगा उसके बादAutomatic Bank एकाउंट Linked हो जाएगा और Setup Completed हो जाएगा यदि आपके मोबाइल नंबर के साथ Multiple Accounts Linkes हैं तो आपको खाते का Select करना होगा। जिसे आप Whatsapp Payment के साथ इस्तेमाल करना चाहते हैं। उसके बाद Done किया।

WhatsApp Payment Setup Process Complete हो गया है, अब आप इसे Payment के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

WhatsApp Payment Process In Hindi व्हाट्सएप से पेमेंट करे ?

किसी WhatsApp यूजर को भुगतान करने के लिए, WhatsApp खोलें और उस व्यक्ति की चैट खोलें जिसे आप भुगतान करना चाहते हैं

अब जो टाइपिंग बॉक्स हम नीचे लिखते हैं उसमें बाईं ओर फाइल भेजने के लिए एक अटैचमेंट आइकन होता है, उस पर क्लिक करें और भुगतान का विकल्प खोलें।

अब राशि दर्ज करें, आप कितना पैसा भेजना चाहते हैं, राशि दर्ज करें।

अब आपके द्वारा एक बार दर्ज की गई राशि की पुष्टि करें और UPI पिन डालकर OK करें, अब आपका भुगतान सफल हो गया है।

निष्कर्ष :-  मुझे उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए मददगार साबित होगी, अगर आपका कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं, अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया पर जरूर शेयर करें। शुक्रिया।

2022 में इंडिया के 10 बेस्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर्स | Top 10 Best Indian Electric Scooters of 2022

Top 10 laptop data recover software

Top 10 laptop data recover software

टॉप 10 Files Recovery Softwares

महत्वपूर्ण फाइलों का करप्ट या गलती से डिलीट हो जाना आपके काम के लिए काफी हानिकारक साबित हो सकता है। इंटरनेट पर आपको कई ऐसे सॉफ्टवेयर मिल जाएंगे, जो फ्री में फाइल्स रिकवर करते हैं। Top 10 laptop data recover software

लेकिन जबकि रिकवरी सभी फ़ाइल फॉर्मेट्स को सपोर्ट नहीं करती है, जिसके कारण आपके लिए सभी फ़ाइलों को रिकवर करना मुश्किल हो जाता है। आज हम आपको कुछ ऐसे फाइल रिकवरी सॉफ्टवेयर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप अपनी करप्ट फाइल को आसानी से रिकवर कर सकते हैं। Top 10 laptop data recover software

1 Orion file Recovery

ओरियन सॉफ्टवेयर नवीनतम विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ अच्छा काम करता है। सॉफ्टवेयर में विज़ार्ड रिकवरी विकल्प है, जो रिकवरी प्रक्रिया को सुचारू रूप से और सटीक रूप से निर्देशित करता है। सॉफ्टवेयर फ्लैश ड्राइव, मेमोरी कार्ड और हार्ड ड्राइव से फाइलों को रिकवर करने में भी सक्षम है। सॉफ्टवेयर $17 और $20 की वार्षिक प्लान्स के साथ-साथ $0.83 की मासिक योजना में उपलब्ध है।

PROS :

यह FAT तथा NFTS Files को support करता हैं |
हार्ड ड्राइव्स और SD कार्ड्स को अच्छे से स्कैन करता हैं
इसमें Sort तथा Filter option भी Available हैं |

CONS :

एडवांस फ़ाइल रिकवरी के लिए उपयुक्त है।
ये Mac OS तथा Linux को support नहीं करता हैं |

2. PC Inspector File Recovery

अगर आप अपने कंप्यूटर की हार्ड डिस्क से फाइल्स को रिकवर करना चाहते हैं तो पीसी इंस्पेक्टर सबसे अच्छा विकल्प है। इसकी खासियत यह है कि सिस्टम खराब होने की वजह से जिन फाइलों का BIOS से पता लगाना मुश्किल होता है, पीसी इंस्पेक्टर उन फाइलों को भी आसानी से रिकवर कर सकते हैं। साथ ही पीसी इंस्पेक्टर सॉफ्टवेयर अनगिनत फाइलों को रिकवर करने में सक्षम है, वह भी बिल्कुल मुफ्त।

PROS :

software boot sector पूरी तरह से खराब होने या डिलीट होने के बावजूद भी यह फाइल्स को रिकवर करता है।
इसे Html फ़ाइल के लिए ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध है।
यह Network Drives को Supports करता हैं तथा Damaged Files को भी रिकवर कर सकता है |

CONS :

कंप्यूटर से निकली हुई हार्ड डिस्क के फ़ाइल को भी रिकवर करने में सक्षम है।
ये Mac OS तथा Linux को support नहीं करता हैं |

3. Undeleted 360

Undeleted 360 न केवल आपकी हार्ड डिस्क से बल्कि मीडिया स्टोरेज जैसे पेन ड्राइव, मेमोरी कार्ड, यूएसबी आदि से भी आपकी सभी फाइलों को रिकवर करता है। आप सिर्फ डिलीटेड ही नहीं, बल्कि वायरस के कारण करप्ट फ़ाइलों को भी रिकवर कर सकते हैं। Undeleted 360 सॉफ्टवेयर उपयोग करने के लिए बिल्कुल मुफ्त है।

PROS :

Corrupted फाइल्स को भी रिकवर करने में सक्षम है।
Hard Disk, Pen drive, USB, Memory Card, तथा Smartphones को भी रिकवर करने में support करता हैं |
Files तथा Folder को भी रिकवर करता हैं |
Sort तथा Filter करने में सक्षम हैं |

CONS :

Window के अलावा यह किसी भी अन्य फाइल को सपोर्ट नहीं करता है |

4. UNDELETE MY File Pro

Undeleted my file pro सॉफ्टवेयर की फाइल रिकवरी स्पीड बहुत अच्छी मानी जाती है। फाइलों के साथ-साथ आपके डिलीट हुए ई-मेल्स और ई-मेल्स में शामिल फाइलें भी रिकवर हो जाती हैं। इसके अलावा यह सॉफ्टवेयर स्कैनिंग के दौरान आपकी फाइलों को सुरक्षा भी प्रदान करता है। अगर आप कंप्यूटर या लैपटॉप से निकाली गई हार्ड डिस्क से अपनी फाइलों को रिकवर करना चाहते हैं तो इस सॉफ्टवेयर से बेहतर कोई विकल्प नहीं है।

PROS :

इसका Interface User-Friendly हैं |

CONS :

यह Windows 10 तथा 8 operating system को ही सपोर्ट करता हैं |
ये Mac OS तथा Linux को support नहीं करता हैं |
इस सॉफ्टवेयर में online support नहीं हैं |
File Recovery के पहले आप किसी भी प्रकार के फाइल का preview को नहीं देख सकते हैं |

5. Wise Data Recovery

वाइज डेटा रिकवरी एक मुफ्त ऑनलाइन फाइल रिकवरी टूल है जिसके लिए आपको फाइलों को रिकवर करने के लिए इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है। सॉफ्टवेयर टूल पेन ड्राइव, एसडी कार्ड जैसे विभिन्न स्टोरेज मीडिया से आपकी फाइलों को रिकवर करने में सक्षम है। साथ ही, रिकवर किए गए डेटा को अन्य स्टोरेज डिवाइस में भी स्टोर किया जा सकता है।

PROS :

इसका इंटरफेस काफी यूजर फ्रेंडली है।
इसका पोर्टेबल वर्जन उपलब्ध है।
यह हार्ड ड्राइव और यूएसबी को सपोर्ट करता है।

CONS

यह MacOS तथा Linux को भी सपोर्ट करता हैं |
यह Advance Recovery को सपोर्ट नहीं करसकता है |
इसमें कोई Preview Available नहीं हैं |

6. Puran File Recovery

पुरान फ़ाइल रिकवरी सॉफ़्टवेयर एक ऐसा सॉफ़्टवेयर है जिसका उपयोग आप व्यक्तिगत और व्यावसायिक दोनों उपयोगों के लिए कर सकते हैं। आप हार्ड डिस्क, हार्ड ड्राइव, पेन ड्राइव आदि जैसे स्टोरेज डिवाइस से अपनी फाइलों को रिकवर कर सकते हैं। भले ही आपका स्टोरेज डिवाइस आपके द्वारा फॉर्मेट किया गया हो या गलती से फॉर्मेट किया गया हो, आपकी सभी फाइलों को पुराने सॉफ्टवेयर द्वारा आसानी से रिकवर किया जा सकता है। आपको VS फ़ाइल पुनर्प्राप्ति सॉफ़्टवेयर का उपयोग करने के लिए कोई शुल्क देने की आवश्यकता नहीं है।

PROS :

यह फाइल को Deeply Scan करता हैं |
इसका Interface काफी user-friendly हैं |
यह BartPE Environment को सपोर्ट करता हैं |

CONS :

Ext3 और ext4 जैसे फ़ाइल फॉर्मेट्स को यह सपोर्ट नहीं कर सकता
इसमें कोई Preview Available नहीं हैं |
यह Linux, MacOs को सपोर्ट नहीं कर पाता |

7. Get Data Back

गेट डेटा बैक आपकी अनगिनत फाइल्स को आसानी से रिकवर करने के लिए सक्षम है। आपकी फाइलों के साथ फोल्डर को बिना किसी नुकसान के रिकवर किया जा सकता है।

PROS

इसे Use करना बेहद आसान हैं |
इसे Configure करना भी बेहद आसान हैं |

CONS

बजट के अनुसार महंगा है।

8. Recover My Files –

रिकवर माय फाइल्स सॉफ्टवेयर के साथ आप अपनी फ़ाइलों को रिकवर करते समय प्रीव्यू भी देख सकते हैं। यह FAT 12, FAT 16, FAT 32, NFTS, NFTS5, HFS, HFS+ फ़ाइल फॉर्मेट्स को रिकवर करने में भी सक्षम है। अपनी फ़ाइलों को रिकवर करने के लिए आपको किसी अतिरिक्त ज्ञान की आवश्यकता नहीं है।

PROS

एक्सटर्नल (External) डिवाइज से भी डेटा को रिकवर कर दिया जा सकता है।
फाइल्स को गहराई से स्कैन करता है।
बहुत सारे files format से यह फाइल रिकवर करता हैं |

CONS

इसमें Options काफी Limited हैं |

9. Advanced Disk Recovery

एडवांस डिस्क रिकवरी द्वारा हार्ड ड्राइव, CDs, DVDs जैसे एक्सटरनल डिवाइज से भी फाइल्स को रिकवर किया जा सकता है। साथ ही, अगर आपके डिवाइस से कुछ फाइल्स लंबे समय से डिलीट हो गई हैं, और आप उन फाइलों को रिकवर करना चाहते हैं, तो एडवांस डिस्क से बेहतर कोई विकल्प नहीं है।

PROS

किसी भी फाइल को Scan करने के लिए यह काफी Trustworthy software है।

External Connected Device से यह फाइल रिकवर करता हैं |

CONS

फ्री डेटा रिकवर करने की मर्यादा सीमित है।

10. Handy Recovery

Handy recovery सॉफ्टवेयर डिलीट हुए फाइल्स के साथ ही करप्टेड फाइल्स को भी रिकवर करता है। साथ ही फाइल्स को नाम, तारीख, साइज अन्य माध्यमों की मदद से फ़िल्टर करने में सक्षम है।

PROS

यह फाइल्स को Systematically तरीके से रिकवर कर लेता हैं |
यह software deleted files को भी अपने से ही Preview कर लेता हैं |
यह Windows 2000/XP/Vista/Windows 7 फाइल्स को ही सपोर्ट करता हैं |

CONS

Recycle Bin से डिलीट हुई फाइल्स को भी रिकवर करने में सक्षम है।

निष्कर्ष :- मैंने आपको इस आर्टिकल में Top 10 laptop data recover software के बारे में बताया है इसमें अगर आपको कोई भी कमी लग रही हो तो आप हमे कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं

इसे भी पढ़ें :-

2022 में इंडिया के 10 बेस्ट इलेक्ट्रिक स्कूटर्स | Top 10 Best Indian Electric Scooters of 2022

2022 के Top 10 बेस्ट इलेक्ट्रिक साइकल्स | Top 10 Best Electric Cycles of 2022