Monday, October 3, 2022
HomeTechnologyComputer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर...

Computer Virus Kya Hai | वायरस के प्रकार | जाने यहां कंप्यूटर वायरस फुल फॉर्म

Computer Virus Kya Hai , Aur Kitne Prakar Ke Hote Hai – दोस्तों आज इस लेख में हम जानेंगे कि कंप्यूटर वायरस क्या है? और कितने प्रकार के होते हैं? इससे जुड़ी जानकारी देने जा रहे हैं।

दोस्तों आप सभी जानते हैं कि आज के समय में कंप्यूटर हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन गया है। जिसकी हमारे जीवन में किसी न किसी रूप में आवश्यकता होती है।

वायरस से जीतना हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। जिससे हमारे शरीर में कई तरह की बीमारियां फैलती हैं। ठीक उसी तरह कंप्यूटर वायरस हमारे कंप्यूटर के लिए भी उतना ही हानिकारक है।

क्योंकि वायरस कंप्यूटर में छोटे प्रोग्राम होते हैं, जो सेल्फ एक्जीक्यूटिव प्रोग्राम होते हैं जो कंप्यूटर में प्रवेश करते हैं और कंप्यूटर की कार्य प्रणाली को प्रभावित करते हैं।

तो आइए इस लेख में जानते हैं कि कंप्यूटर वायरस क्या है? कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं? (What is Computer Virus? What are the types of Computer Virusहैं) जानिए इससे जुड़ी जानकारी हिंदी में

Virus का फुल फॉर्म  (Virus full form)

वाइटल इनफार्मेशन रिसोर्सेज अंडर सीज (Vital Information Resources Under Siege)

V – Vital

I  –  Information

R – Resources

U – Under

S  – Siege 

कंप्यूटर वायरस क्या है? (What is Computer Virus in Hindi)

अगर हम कंप्यूटर वायरस की बात करें तो कंप्यूटर वायरस वाइटल इंफॉर्मेशन रिसोर्सेज अंडर सीज है। जो एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है, जिसे आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को धीमा करने के साथ-साथ आपके कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर को काम करने से रोकने और कंप्यूटर के डेटा को नष्ट या दूषित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

यह वायरस किसी भी तरह से हमारे कंप्यूटर में तेज गति से प्रवेश करता है। और हमारे बहुत ही महत्वपूर्ण कंप्यूटर फाइलों और महत्वपूर्ण डेटा को हटा देता है। यह एक ऐसा वायरस है जो हमारे डेटा को नष्ट कर सकता है और इस वायरस के कारण हमारा कंप्यूटर भी हैंग हो जाता है।

कंप्यूटर वायरस का इतिहास

कंप्यूटर वायरस के इतिहास की बात करें तो सबसे पहले वायरस शब्द का इस्तेमाल कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के एक छात्र फ्रेड कोहेन ने कंप्यूटर प्रोग्राम लिखने के लिए किया था जो कंप्यूटर में प्रवेश करते ही सिस्टम पर हमला करता है। जैसे कोई वायरस हमारे शरीर में प्रवेश कर हमें संक्रमित कर देता है।

हालांकि साल 1980 में इस वायरस का पता लगाना काफी मुश्किल था, लेकिन आधुनिक वायरस में सी ब्रेन नाम का वायरस पूरी दुनिया में बहुत तेजी से फैला।

क्योंकि इस वायरस की उत्पत्ति और विशेषाधिकार वर्ष (1986) में मौजूद थे। और उस कार्यक्रम में दो पाकिस्तानी भाइयों बासित और अमजद और उनकी कंपनी का नाम और पूरा पता भी मौजूद था। लेकिन उस समय इस वायरस को गंभीरता से नहीं लिया गया था.

जब 1988 की शुरुआत में Macintosh पीस वायरस उभरा, तो वायरस को विशेष रूप से Macintosh ऑपरेटिंग सिस्टम को बाधित करने के लिए डिज़ाइन किया गया था। लेकिन इस वायरस से बचने के लिए दिन-ब-दिन प्रयास चल रहे थे। और एक एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर का आविष्कार किया गया है।

जिस तरह वायरस को हटाने के लिए सॉफ्टवेयर बनाया गया था, उसी तरह नए वायरस बनाए गए। और फिर एक बार फिर पूरे एंटीवायरस उद्योग को एक नए प्रकार के एंटीवायरस को विकसित करने के लिए मजबूर करना।

Computer Virus कितने प्रकार के होते है

आपको पता चल ही गया होगा कि कंप्यूटर वायरस (Computer Virus) क्या है? तो आइए अब जानते हैं कि कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं। जैसा कि नीचे लिखा है।

बूट सेक्टर वायरस (Boot Sector Virus)

Boot Sector Virus यह वायरस हार्ड डिस्क या फ्लॉपी हार्ड डिस्क या बूट सेक्टर के मास्टर बूट रिकॉर्ड (MBR) को संक्रमित करता है। ये वायरस मुख्य रूप से हटाने योग्य मीडिया के माध्यम से सिस्टम में प्रवेश करते हैं। जब कंप्यूटर चालू होता है, तो यह ऑपरेटिंग सिस्टम की लोडिंग में बाधा डालता है।

यदि यह वायरस कंप्यूटर को संक्रमित कर देता है, तो इसे फिर से कंप्यूटर से बाहर निकालना बहुत मुश्किल हो जाता है। जिसके लिए आपको सिस्टम से वायरस को हटाने के लिए सिस्टम को फॉर्मेट करना होता है।

माइक्रो वायरस (Micro Virus)

माइक्रोवायरस कोड के ब्लॉग होते हैं जो किए गए कार्यों को स्वचालित करने के लिए लिखे जाते हैं। जो विशेष रूप से कुछ प्रकार की फाइलों जैसे दस्तावेजों, स्प्रेडशीट आदि को नुकसान पहुंचाने के लिए होते हैं। मैक्रो वायरस मैक्रो प्रोग्राम के रूप में प्रच्छन्न होते हैं और उपयोग किए जाने पर डेटा को नुकसान पहुंचाते हैं।

पार्टीशन टेबल वायरस (Partition Table Virus)

Partition Table Virus यह वायरस हार्ड डिस्क के Partition Table को नुकसान पहुंचाने में सक्षम है। हालांकि, कंप्यूटर डेटा इससे डरता नहीं है। लेकिन यह हार्ड डिस्क के मास्टर बूट रिकॉर्ड को प्रभावित करता है। जैसे RAM की क्षमता कम करना, डिस्क के इनपुट और आउटपुट प्रोग्राम में समस्या पैदा करना आदि।

ब्राउज़र हाईजैक वायरस (Browser Hijacker Virus)

इंटरनेट का अत्यधिक उपयोग हमारे सिस्टम में वायरस के फैलने का मुख्य कारण है। जैसे आप किसी भी तरह की वेबसाइट, फाइल या ऑनलाइन गेम, मूवी देखते हैं। तो इससे हमारे सिस्टम में वायरस आने की संभावना बढ़ जाती है। जिससे हमारा सिस्टम काफी स्लो हो जाता है और फाइल और वेबसाइट को ओपन करने के बाद लोडिंग होती रहती है।

 

रिसाइडेन्ट वायरस (Resident Virus)

रेजिडेंट वायरस यह वायरस रैम मेमोरी में प्रवेश करके उन्हें प्रभावित करता है। साथ ही ये वायरस धीमी गति से काम करते हैं, जबकि कुछ वायरस तेज गति से काम करते हैं। क्योंकि इस वायरस को सिस्टम में फैलाने से काफी दिक्कत होती है। जैसे कॉपी-पेस्ट करना, सिस्टम को ऑपरेट करना, सिस्टम को बंद करना, ऐसे छोटे-छोटे वायरस एंटी-वायरस के साथ जुड़ जाते हैं।

फाइल वायरस (File Virus)

फाइल वायरस  (File Virus) यह वायरस कंप्यूटर पर फाइलों को काफी नुकसान पहुंचाता है और यह वायरस आपके कंप्यूटर सिस्टम के लिए भी काफी हानिकारक हो सकता है। क्योंकि यह वायरस आपके कंप्यूटर में स्टोर की गई फाइलों या डेटा को आसानी से संक्रमित कर सकता है। वह वायरस जो .COM, EXE फाइल को नुकसान पहुंचाता है, फाइल वायरस कहलाता है।

गुप्त वायरस (Stealth Virus)

स्टील्थ वायरस यह वायरस कंप्यूटर में घुसकर अपने पैच को छुपाता रहता है। और यह वायरस एंटी वायरस की चपेट में आने के डर से हर संभावना को छिपाने की कोशिश करता है। इसलिए यह वायरस अलग-अलग नामों से प्रवेश करता है और कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाने का काम करता है।

डायरेक्ट एक्शन वायरस (Direct Action Virus)

डायरेक्ट एक्शन वायरस को अनिवासी वायरस भी कहा जाता है। यह वायरस विशिष्ट एक्सटेंशन (जैसे .COM, EXE) के साथ बड़ी फ़ाइलों को संक्रमित करता है।

कंप्यूटर वायरस के कुछ प्रसिद्ध नाम (Some Famous Names of Computer Virus)

  • कोलंबस (Columbus)
  • जेरूसलेम (Jerusalem)
  • मैकमैग (McMag)
  • सी ब्रेन (C Brain)
  • डिस्क वॉशर (Disc Washer)
  • माइकल एंजिलो (Michelangelo)

कंप्यूटर वायरस के कारण (Cause of Computer Virus)

  1. तो आइए जानते हैं कि किस वजह से कंप्यूटर में वायरस आ सकते हैं, आइए जानते हैं
  2. डिवाइस को किसी दूसरे डिवाइस से कनेक्ट करने पर भी वायरस आता है। 
  3. इंटरनेट के कारण
  4. ब्लूटूथ के कारण
  5. सिस्टम में प्रोग्राम डाउनलोड करने पर ऐसे प्रोग्राम जिनमें डाउनलोड के योग्य फ़ाइलें होती हैं, मैलवेयर के सबसे बढ़िया स्रोत हैं. जैसे फ्रीवेयर, वर्म्स और अन्य निष्पादन योग्य फ़ाइलें आदि के कारण
  6. ईमेल संलग्नक
  7. ऑनलाइन एप्स

कंप्यूटर वायरस के लक्षण (Symptoms of Computer Virus)

  • सिस्टम स्लो चलाना या फिर हैंग होना
  • अनावश्यक ईमेल आगमन
  • इंटरनेट नेट पर ऑनलाइन गेम खेलना और फिल्में देखना भी इसके लक्षण है 
  • फ़ाइल प्रोग्राम अपने आप चलना
  • सिस्टम में एंटीवायरस अपडेट हो जाना
  • ब्राउज़र का उपयोग करते समय आपकी स्क्रीन पर इनकरेक्ट का मैसेज आना या चेतावनी मैसेज दिखाई देना
  • सिस्टम में अपने आप प्रोग्राम इंस्टॉल हो जाना

वायरस को रोकने के लिए सबसे बढ़िया तरीका 

  • सिस्टम एंटी वायरस सॉफ़्टवेयर स्थापित करें। 
  • एंटी वायरस का सॉफ्टवयेर नियमित रूप से अपडेट करते रहना। 
  • अपने खाते का उपयोग कर ईमेल भेजें
  • सिस्टम पर सॉफ्टवेर की केवल रजिस्टर कॉपी ही इनस्टॉल करना। 
  • वायरस सिस्टम को अपने नेटवर्क से डिस्कनेक्ट करें और इसे स्कैन करें
  • फ्लॉपी डिस्क और ईमेल संदेशो को खोलने से पहले उन्हें स्कैन करे
  • इंटरनेट से बिना मतलब के सॉफ्टवेयर डाउनलोड या इंस्टॉल करने से बचे और अगर आपको फ़ाइल डाउनलोड करनी ही है, तो इसे विश्वसनीय स्रोतों से डाउनलोड करें.
  • Computer Virus FAQs

Question – कंप्यूटर वायरस की खोज किसने की?

Answer – पहला वायरस ARPANET पर खोजा गया था, जो 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले, TENEX ऑपरेटिंग सिस्टम के माध्यम से फैला था और इसका उपयोग कंप्यूटरों को नियंत्रित और संक्रमित करने के लिए किया गया था। इसके लिए किसी भी कनेक्टेड मॉडम का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह संदेश प्रदर्शित कर सकता है “मैं क्रीपर हूं, अगर आप कर सकते हैं तो मुझे पकड़ लो”, यह अफवाह थी कि रीपर प्रोग्राम, जो इसके तुरंत बाद दिखाई देता है और क्रीपर को कॉपी और हटा देता है, का उपयोग क्रीपर द्वारा किया जा सकता है। पत्र में निर्माता द्वारा माफीनामा लिखा गया था। एक आम धारणा है कि “रदर जे” नामक एक कार्यक्रम है। और यह “जंगली में” प्रकट होने वाला पहला कंप्यूटर वायरस था।

Question– प्रथम कंप्यूटर वायरस कौन सा है?

Answer – पहला कंप्यूटर वायरस क्रीपर ARPANET पर खोजा गया था, जो 1970 के दशक की शुरुआत में इंटरनेट से पहले था। यह TENEX ऑपरेटिंग सिस्टम के माध्यम से फैल गया, और यह कंप्यूटर को नियंत्रित और संक्रमित करने के लिए किसी भी कनेक्टेड मॉडेम का उपयोग कर सकता था।

Question – कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय क्या है?

Answer – कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

1. ईमेल अटैचमेंट को बिना स्कैन किये न खोलें

  1. आपने कंप्यूटर में फ़ायरवॉल (Firewall) इनस्टॉल करें
  2. Ad Blocker Install करें
  3. स्वचालित स्कैन सेट करें आपने कंप्यूटर में
  4. एक मजबूत पासवर्ड का प्रयोग करें
  5. पॉप-अप अवरोधक का प्रयोग करें
  6. आपने कंप्यूटर में एन्टीवॉयरस इनस्टॉल करें
  7. ईमेल में लिंक पर क्लिक न करें
  8. आपने कंप्यूटर का सॉफ्टवेयर हमेशा अपडेटेड रखें
  9. अपने कंप्यूटर का बैकअप लेकर रखें

Question – कंप्यूटर वायरस क्या है?

Answer – Computer वायरस Vital Information Resources Under Siege है. जो एक तरह का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है, जिसे आपके कंप्यूटर के प्रदर्शन को धीमा करने के साथ-साथ आपके कंप्यूटर सिस्टम सॉफ्टवेयर को काम करने से रोकने और कंप्यूटर के डेटा को नष्ट या दूषित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जो हमारे महत्वपूर्ण कंप्यूटर फाइल्स और जरूरी डाटा को हटा देता है।

Question – कंप्यूटर वायरस कितने प्रकार के होते हैं?

Answer – Computer Viruses कुछ इस प्रकार है –

  • Boot Sector Virus
  • Micro Virus
  • Partition Table Virus
  • Browser Hijacker Virus
  • Resident Virus
  • File Virus
  • Stealth Virus
  • Direct Action Virus 

Question – वायरस और एंटीवायरस क्या है?

Answer – Virus एक कंप्यूटर प्रोग्राम है जो खुद को कॉपी करने और आपके कंप्यूटर को संक्रमित करने की क्षमता रखता है। Antivirus एक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जिसका उपयोग कंप्यूटर वायरस, Worms, Spyware, Trojan horses, Adware, and Spyware जैसे मैलवेयर को रोकने और उनका पता लगाने और हटाने के लिए किया जाता है। 

निष्कर्ष :-  मैंने आपको इस आर्टिकल में कंप्यूटर वायरस क्या है (Computer Virus Kya Hai)बताया है और कितने प्रकार के होते है कम्प्यूटर वायरस का फुल फॉर्म(computer virus ka full form) क्या होता है मैंने आपको इस आर्टिकल में वो सब कुछ बताने के कोशिस की है जो आपको कंप्यूटर वायरस क्या है से जुडी जानकारी चाहते हैं मैंने आपको आर्टिकल में जो बताया है उसमे अगर कोई कमी है तो आप मुझे कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं धन्यवाद

 

Read more :- 

Captcha Code Kya Hai: Captcha Code Meaning in Hindi | What is Captcha Code in हिंदी

VPN Kya Hai Aur Kaise Kaam Karta Hai

Shashikant Tiwari
Shashikant Tiwari
I am Shashikant Tiwari. I am a blogger and my responsibilities include doing in-depth research on Indian trending topics, generating ideas for new content.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments