Wednesday, December 7, 2022
HomeTechnologyइलेक्ट्रिक साइकिल क्या होती हैं? ये किस तरह काम करती हैं ?

इलेक्ट्रिक साइकिल क्या होती हैं? ये किस तरह काम करती हैं ?

जानिए electric cycle क्या होती है? ये कितने तरह की होती है तथा ये किस तरह काम करती है? ईंधन वाहनों की तुलना में E-cycle किस तरह लाभदायक है।

इलेक्ट्रिक व्हीकल, इलेक्ट्रिक बाइक के बारे में तो आप लोगों ने सुना ही होगा, आजकल दुनिया का हर देश पर्यावरण को बचाने पर जोर दे रहा है। इसके चलते इलेक्ट्रिक वाहनों को प्राथमिकता दी जा रही है। तो इसी कड़ी में इलेक्ट्रिक साइकिल भी काफी तेजी से मशहूर हो रही है. आज के इस लेख में मैं आपको इन इलेक्ट्रिक साइकिल के बारे में बताने जा रहा हूं।

Electric Cycle क्या है ?

Electric cycle का नाम सुनते ही आपके मन में  Electric motorcycle या Electric scooter की तस्वीर जरूर आती होगी, लेकिन दोस्तों के इस बीच आपको बता दूं कि इलेक्ट्रिक साइकिल, जिसे E-bicycle भी कहा जाता है, एक तरह की साइकिल ही है। एक ऐसी साइकिल जिसमें न केवल पारंपरिक साइकिल की तरह पैडल होते हैं, बल्कि आप इसे एक एकीकृत इलेक्ट्रिक मोटर  (instigated electric motor) की मदद से भी चला सकते हैं। इस साइकिल में लगी एकीकृत इलेक्ट्रिक मोटर (instigated electric motor) को ऊर्जा एक बैटरी के द्वारा मिलती हैं। जो साइकिल के साथ ही जुडी हुई होती हैं।

आप जब चाहे अपनी इच्छा अनुसार से साइकिल को पेडल या फिर आप motor से चला सकते हैं। कुछ Electric cycles में तो पेडल मारने पर बैटरी चार्ज होती रहती हैं, मतलब आप अपनी सेहत का ध्यान रखने के साथ- साथ बैटरी भी चार्ज कर सकते हैं जिसे आप जब चाहे उपयोग कर सकते हैं।

इलेक्ट्रिक साइकिल के प्रकार (Types Of Electric Cycles)

Pedal Assist / पडलेस

यह इलेक्ट्रिक साइकिल का सबसे सामान्य प्रकार है जिसे पेडल असिस्ट या पेडलेक कहते हैं। साइकिल चलाने वाला सामान्य रूप से बाइक को पैडल करता है जबकि इसमें लगी मोटर चालक को सहायता प्रदान करती है, जिससे पीछे के पहिये में संचारित शक्ति बढ़ जाती है। इस साइकिल का प्रयोग करने पर चालक को सामान्य रूप से बहुत कम पेडल मारने पड़ते है। यहां तक ​​​​कि जब हम इसे उच्च गियर में, उच्च गति में चलाये या फिर खड़ी पहाड़ियों पर यह चालाक के काम को आसान बनाने में मदद करती हैं।

साइकिल चालक इसमें उपलब्ध सेटिंग्स की मदद से अपनी इच्छानुसार गति को नियंत्रित कर सकता है। यूरोप के अधिकांश देशों ने पेडल असिस्ट या पेडलेक साइकिल के लिए अधिकतम 25 किलोमीटर प्रति घंटा (केएमएच) या लगभग 15 मील प्रति घंटे की गति निर्धारित की है, जबकि अमेरिका में गति सीमा लगभग 32 किलोमीटर प्रति घंटा या 20 मील प्रति घंटे है। सीमित है। भारत में कोई गति सीमा निर्धारित नहीं है। आप इन साइकिलों का उपयोग उन अधिकांश सड़कों और रास्तों पर कर सकते हैं जहाँ सामान्य बाइक की अनुमति है, और इसके लिए किसी अतिरिक्त लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है।

Throttle 

इस प्रकार की इलेक्ट्रिक साइकिल, जैसे स्कूटर और मोटरसाइकिल, सवार को चलाए बिना अपने आप चलती है, यानी इस चक्र में साइकिल चालक को कोई पेडल मरने की आवश्यकता नहीं होती है। इन साइकिलों की गति इनमें लगे एक्सीलेटर पर निर्भर करती है। जितना अधिक आप त्वरक को घुमाएंगे, उतनी ही अधिक गति आपको प्राप्त होगी। इस त्वरक को थ्रॉटल भी कहा जाता है, जिसके कारण इसे थ्रॉटल ई-साइकिल नाम मिला। ये पेडल-असिस्ट साइकिल की तुलना में बहुत कम प्रचलित हैं क्योंकि कई देशों में ऐसे कानून हैं जो इन्हें पूरी तरह प्रतिबंधित करते हैं। इसलिए संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन में थ्रॉटलड ई-बाइक सबसे आम हैं जहां उनके उपयोग को सीमित करने वाले बहुत कम कानून मौजूद हैं।

Pedal Assist 28mph

इस क्लास या टाइप की इलेक्ट्रिक साइकिल की अधिकतम गति 28mph हो सकती हैं। इतनी गति से चलने के बाद भी यह कानूनी रूप से एक साइकिल हैं। और इसके लिए ड्राइविंग लाइसेंस, लाइसेंस प्लेट आदि चीजों की जरूरत नहीं होती हैं, लेकिन इसे चलने के लिए हेलमेट पहनना बहुत जरूरी है। क्योकि इतनी गति से गिरने पर शरीर को नुकसान हो सकता हैं। इस प्रकार की साइकिल पेडल असिस्ट तथा  थ्रॉटल टाइप भी हो सकती हैं। इन साइकिलो को चलने के लिए न्यूयनतम उम्र 17 वर्ष होनी चाहिए।

इलेक्ट्रिक साइकिल कैसे काम करती है? (How Do Electric Cycle Work)

दोस्तों अगर आपके पास कभी ऐसी साइकिल रही हो, जिसके पीछे सेफ्टी लैंप लगा हो, या आपने कहीं ऐसी साइकिल देखी हो, तो आप इलेक्ट्रिक साइकिल के काम करने के सिद्धांत को समझ पाएंगे। विचार करें: जैसे ही आप अपने पैरों को पैडल पर ऊपर और नीचे पंप करते हैं, आप पहियों को घुमाते हैं। रियर व्हील पर लगा एक छोटा डायनेमो (जनरेटर) बिजली की एक छोटी सी धारा पैदा करता है जो आपके बैक सेफ्टी लैंप को अंधेरे में जलाए रखता है।

अब मान लीजिए कि आप इस प्रक्रिया को उल्टा कर देते हैं। क्या होगा यदि आपने सेफ्टी लैंप को हटा दिया और इसे एक बड़ी बैटरी से बदल दिया। बैटरी एक स्थिर विद्युत धारा(fixed electric current) प्रदान करती है, और यह धारा डायनेमो को उल्टा चलाती है ताकि वह इलेक्ट्रिक मोटर की तरह काम करे। जैसे ही डायनेमो/मोटर घूमती है, यह टायर को घुमाती  है और आपके पेडलिंग की मदद के बिना साइकिल को आगे बढ़ाती है।

अतः सामान्य भाषा में इलेक्ट्रिक साइकिल में बैटरी से धारा(current) मोटर में जाता है, और मोटर के घूमने के साथ ही साइकिल के पहिये चलने लगते है।

इलेक्ट्रिक साइकिल के प्रमुख भाग (Important Parts Of Electric Cycle)

इलेक्ट्रिक बाइक के चार मुख्य भाग होते हैं

1) बैटरी 

बैटरी E-bicycle के सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि बैटरी में वह सारी शक्ति होती है जो आपको साइकिल सहित ले जाने के लिए आवश्यक है (यदि आप कोई पेडलिंग नहीं करते हैं)।  इलेक्ट्रिक साइकिल  बैटरी लगभग 350-500 वाट शक्ति  (जो लगभग 35-50 वोल्ट और 10 एम्पियर है ) बनाती है, जो कि एक इलेक्ट्रिक टोस्टर को चलाने के लिए आवश्यक शक्ति का लगभग एक चौथाई है।

सैद्धांतिक रूप से , आप साइकिल पर किसी भी प्रकार की बैटरी का उपयोग कर सकते हैं। हालाँकि, व्यवहार में, आप किसी ऐसी चीज़ का उपयोग करना चाहते हैं जो बहुत अधिक वजनी हुए बिना बहुत अधिक शक्ति संग्रहीत करती हो – नहीं तो  आप बैटरी में संचित आधी शक्ति का उपयोग केवल बैटरी को साथ ले जाने में करेंगे! मतलब  भारी लेड-एसिड बैटरियों का इनमे  प्रयोग रद्द  जाता है हालांकि कुछ इलेक्ट्रिक बाइक उनका उपयोग करती हैं।

2) इलेक्ट्रिक साइकिल मोटर

मुख्य रूप से विद्युत साइकिल में दो प्रकार की इलेक्ट्रिक मोटर्स का प्रयोग होता हैं, जिन्हें  पूर्ण-शक्ति मोटर और शक्ति-सहायता मोटर के रूप में जाना जाता है, और इन विद्युत मोटर द्वारा साइकिल के संचालित होने के तरीके भिन्न होते हैं।

1)  Full-power motor-

जिन साइकिलो  में यह मोटर लगी होती है उनको अपेक्षाकृत कम दूरी पर न्यूनतम पेडलिंग के लिए डिज़ाइन किया जाता है। इन साइकिलो में बड़ी बैटरी और शक्तिशाली हब मोटर्स होती है, और ये बहुत मजबूत तथा भरी होती है। इस प्रकार की साइकिल की गति तथा दूरी दोनों कम होती है  (आमतौर पर 16-30 किमी या 10-20 मील) क्योकि आप हर समय बिजली का उपयोग कर रहे हैं। इस तरह की full power motor E-cycle  उन लोगों के लिए है जो साइकिल चलाना पसंद करते हैं लेकिन पेडलिंग से नफरत करते हैं ।

2) Power-assist motor

जिन साइकिलो में इस परक ही मोटर लगी होती है उनको  हाइब्रिड कारों के समकक्ष मन जा सकता है। इन साइकिलो को लम्बे समय तक पेडल करने के लिए डिज़ाइन किया जाता है और जब आप थक जाते हैं या जब आप मोटर  की सहायता की महसूस करते हैं तो इस विद्युत रूप से संचालित कर सकते हैं ( उदाहरण के लिए, जब आप पहाड़ी पर जा रहे हों )।

फुल-पावर मोटर E-bicycle  के विपरीत, इनमे हब मोटर नहीं होते हैं; इसके बजाय, पीछे के पहिये के पास एक अलग इलेक्ट्रिक मोटर लगाई गई है और इसे या तो गियर स्प्रोकेट के माध्यम से या केवल पीछे के टायर के साथ लगाया जाता है। जहां एक हब मोटर वाली साइकिल को बिना किसी शक्ति के पेडल करना मुश्किल या असंभव है (क्योंकि आप इसे प्रभावी रूप से जनरेटर में बदल रहे हैं), वहीं आप  तो पावर-असिस्ट मोटर वाली साइकिल को  बहुत कम या बिना किसी प्रतिरोध के आसानी से पेडल कर सकते हैं।  हब-मोटर की तुलना में पावर-असिस्ट बहुत अधिक रेंज देता है। (80-145 किमी या 50-90 मील तक) ।

3) Frame

इलेक्ट्रिक बाइक का फ्रेम भी थोड़ा अलग होना चाहिए। फ्रेम का मुख्य भाग (वह  जो आपके वजन को सभांल सकता हो)। यह आमतौर पर हल्के एल्यूमीनियम मिश्र धातु से बना होता है।  फ्रेम जितना हल्का होता है, समग्र रूप से साइकिल  का वजन उतना ही हल्का होता है,  जिससे आप बैटरी को रिचार्ज कर से पहले अपनी यात्रा पूरी कर सकें।

पहिए पर लगे स्पोक भी पारंपरिक साइकिल के  पतले  स्पोक की तुलना में अधिक मजबूत होने चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि हब में इलेक्ट्रिक मोटर बहुत अधिक टर्निंग फोर्स (टॉर्क के रूप में जाना जाता है) के साथ पहिया को घुमाती है और यदि स्पोक सामान्य हुए तो वह मुड़ या फिर टूट सकते है।

4) Brakes

कुछ इलेक्ट्रिक साइकिल  पुनर्योजी ब्रेकिंग (regenerative braking) नामक एक साफ-सुथरी तकनीक का उपयोग करने का दावा करती हैं। यदि आप साइकिल को पेडल करना शुरू करते हैं या नीचे की ओर जाते हैं, तो  पहिये इलेक्ट्रिक मोटर को एक जनरेटर में परिवर्तित कर देते हैं और बैटरी चार्ज करना शुरू कर देते हैं।

व्यवहार में, पुनर्योजी ब्रेक(regenerative brake) लगाना इलेक्ट्रिक साइकिल पर उतना उपयोगी नहीं है जितना कि इलेक्ट्रिक ट्रेन या कार पर। एक इलेक्ट्रिक बाइक में ट्रेन या कार की तुलना में बहुत कम द्रव्यमान और वेग होता है।

इसलिए जब यह शुरू होता है और रुकता है तो यह कभी भी उतनी गतिज ऊर्जा प्राप्त नहीं करता (या खोता है)। बैटरी को पूरी तरह से चार्ज करने के लिए आपको बहुत सी पहाड़ियों से नीचे जाना होगा और यह आमतौर पर व्यावहारिक नहीं है। और केवल बैटरी चार्ज करने के लिए पहियों को पेडल करने का क्या मतलब है?

Features Of An Electric Cycle

1) अच्छी बिल्ड क्वालिटी इसकी बॉडी मजबूत और हल्की है

2) पोर्टेबल

3) मोटर संचालित

4) ऑपरेशन के कई तरीके A) पेडल राइडिंग मोड B) इलेक्ट्रिक राइडिंग मोड C)असिस्टेंट राइडिंग मोड

5) बैटरी संचालित

सवाल / जवाब

प्रश्न :- इलेक्ट्रिक साइकिल का आविष्कार किसने किया था?

उत्तर :- 1897 में, बोस्टन के होसे डब्ल्यू लिब्बी ने एक इलेक्ट्रिक साइकिल का आविष्कार किया।

प्रश्न :- भारत में इलेक्ट्रिक साइकिल बनाने वाली कंपनी कौन-कौन सी है ?

उत्तर :- वर्त्तमान में भारत में बहुत सी ऐसी कम्पनी हैं जो electric cycle बनती हैं। जिनमे से कुछ निम्न हैं

1) Hero

2) जेनेरिक

3) Autonix

4) Nexzu

प्रश्न :- क्या इलेक्ट्रिक साइकिल को पेडल से भी चला सकते हैं?

उत्तर :- जी हाँ, इलेक्ट्रिक साइकिल को पेडल से चलाया जा सकता हैं। कुछ इलेक्ट्रिक साइकिल पडेल असिस्ट होती हैं।

इसे भी पढें :-

सावन में कैसे करें देवो के देव महादेव की पूजा ?

इलेक्ट्रिक बाइक क्या है | electric bike kya hai 

Shashikant Tiwari
Shashikant Tiwari
I am Shashikant Tiwari. I am a blogger and my responsibilities include doing in-depth research on Indian trending topics, generating ideas for new content.
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments